तेलंगानाः मुख्यमंत्री के खिलाफ़ एफ़आईआर

इमेज कॉपीरइट PTI

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के ख़िलाफ़ गैरक़ानूनी ढंग से फ़ोन टैपिंग मामले में केस दर्ज किया गया है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के फ़ोन को गैरक़ानूनी तरीके से टेप करने के मामले में एफ़आईआर दर्ज की गई है.

मुख्यमंत्री पर विशाखापट्टनम् के थ्री टाउन पुलिस स्टेशन और विजयवाड़ा सहित राज्य के कई अन्य पुलिस स्टेशनों में एफ़आईआर दर्ज हुई है.

थ्री टाउन पुलिस स्टेशन इंस्पेक्टर बी तिरूमाला राव के मुताबिक कथित फ़ोन टैपिंग मामले में मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ विशाखापत्तनम् के वकील एनवीवी प्रसाद और टीडीपी विधायक ने शिकायत दर्ज की.

वकील एनवीवी प्रसाद और टीडीपी विधायक ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि कथित फ़ोन टैपिंग चंद्रबाबू नायडू के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन और उनकी छवि ख़राब करने की कोशिश है.

इमेज कॉपीरइट AP

अपनी शिकायत में उन्होंने टीआरएस पर टीडीपी सदस्यों के ख़िलाफ़ जासूसी किए जाने का आरोप लगाया गया है.

आईपीसी की धारा 464, 471, 166, 167 और 120/ब के तहत मामला दर्ज किया गया है.

'नोट के बदले वोट' मामला

दरअसल 'नोट के बदले वोट' घोटाले में चल रही जांच के तहत एंटीकरप्शन ब्यूरो ने आंध्र प्रदेश मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का कथित तौर पर फ़ोन टैप किया था.

एंटीकरप्शन ब्यूरो ने 4 जून को टीडीपी विधायक रेवंत रेड्डी को तेलंगाना विधान परिषद के लिए चुनाव में अपनी पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में मतदान करने के लिए एंग्लो इंडियन विधायक स्टीफ़न के बेटे को कथित तौर पर 5 करोड़ रुपए रिश्वत देने की कोशिश करते हुए गिरफ़्तार किया.

तेलंगाना के एंटीकरफ्शन ब्यूरो ने विधायक की ओर से 50 लाख रुपए की पेशकश करने के वीडियो साक्ष्य भी जुटाए हैं. यही नहीं ब्यूरो ने स्टीफ़न के बेटे से मुख्यमंत्री नायडू की बातचीत को भी टेप किया है.

इस ऑडियो वीडियो टेप को मीडिया में एक दिन पहले दिखाया जा चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार