गुजरात: बारिश और बाढ़ से 50 लोगों की मौत

गुजरात में आई बाढ़ इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF DEFENCE

भारी बारिश और बाढ़ की वजह से गुजरात के राजकोट और अमरेली ज़िले में कम से कम 50 लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

गांधीनगर में बनाए गए नियंत्रण कक्ष के अधिकारियों के मुताबिक़ सबसे अधिक 23 मौतें अमरेली ज़िले में हुई हैं. मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल ने बाढ़ से प्रभावित इलाक़ों का हवाई सर्वेक्षण किया.

इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF DEFENCE

बुधवार से हो रही भारी बारिश हालांकि थम गई है. लेकिन कई इलाकों में पानी जमा हो गया है. वहीं क़रीब 30 गांवों का संपर्क शेष गुजरात से कट गया है, जिन्हें फिर से जो़ड़ने का प्रयास किया जा रहा है. गिर सोमनाथ, जूनागढ़ द्वारका, बोटड और सुरेंदरनगर ज़िलों में भी भारी बारिश की ख़बर है.

अधिकारियों के मुताबिक़ शत्रुंजया नदी का पानी कई गांवों में घुस गया. इससे स्थिति और भी भयावह हो गई.

राहत और बचाव कार्य

इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF DEFENCE

दोनों प्रभावित ज़िलों में एनडीआरएफ़, भारतीय वायुसेना और स्टेट रिर्जव पुलिस (एसआरपी) की टीमों को राहत और बचाव कार्यों में लगाया गया है. राहत और बचाव कार्यों में वायुसेना के दो हेलिकॉप्टरों को लगाया गया है.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता सितांशु कर ने ट्विट कर बताया कि भारतीय वायुसेना के जामनगर केंद्र से एमआई-17 वीएस हेलिकॉप्टर अमरेली ज़िले में राहत और बचाव कार्य कर रहे हैं.

प्रवक्ता के मुताबिक़ अमरेजी ज़िले में वायुसेना ने 87 लोगो को बचाया और 120 किलो खाद्य सामग्री गिराई.

इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF DEFENCE

बारिश की वजह से बिजली आपूर्ति बुरी तरह से प्रभावित हुई है.

राजकोट के ज़िलाधिकारी के मुताबिक़ भादर नदी के किनारे बसे 17 गांवों से क़रीब चार हज़ार लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF DEFENCE

मौसम विभाग ने गुजरात के सौराष्ट्र इलाके में भारी बारिश की आशंका जताई है.इसे देखते हुए अगले 48 घंटे के लिए प्रशासन ने हाई अर्ट जारी कर दिया है.

रेल यातायात

इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF DEFENCE
Image caption वायु सेना ने प्रभावित इलाक़ों में 120 किलो खाद्य सामग्री गिराई है.

वेस्टर्न रेलवे के प्रवक्ता के मुताबिक़ ट्रैक पर पानी आ जाने की वजह से रेल यातायात प्रभावित हुआ है.

अहमदाबाद में हुई एक उच्चस्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल ने स्थिति की समीक्षा की और प्रभावित ज़िलों के प्रभारी मंत्रियों को अपने इलाक़े में जाने के निर्देश दिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार