छवि ख़राब करने की कोशिश: वसुंधरा

वसुंधरा राजे और नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट PTI

आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की मदद करने के आरोपों को लेकर भारतीय जनता पार्टी नेता और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर पद से हटने को लेकर दबाव बढ़ता जा रहा है.

विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया है कि ललित मोदी के मामले में राजस्थान की मुख्यमंत्री ने बार-बार झूठ बोला है. कांग्रेस ने कहा है कि उस एफ़िडेविट पर उनके दस्तख़त हैं.

लेकिन वसुंधरा राजे के दफ़्तर से जारी बयान में कहा गया है कि मीडिया का एक वर्ग उनकी छवि ख़राब करने की कोशिश कर रहा है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक वसुंधरा राजे के दफ़्तर से जारी बयान में कहा गया है कि "मीडिया वसुंधरा की छवि ख़राब करने और 'राजनीतिक नुकसान' पहुंचाने के लिए उनके बारे में 'ग़लत' ख़बर फैला रहा है."

वहीं राजस्थान भाजपा ने कहा है कि मुख्यमंत्री इस्तीफ़ा नहीं देंगी क्योंकि 'उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया' है.

इमेज कॉपीरइट pti

बुधवार रात पत्रकारों से बात करते हुए राजस्थान राज्य पार्टी अध्यक्ष अशोक परनामी ने कहा कि राजे बेगुनाह हैं और ये कोई मुद्दा नहीं है जिस पर वसुंधरा को कटघरे में खड़ा किया जाए.

हालांकि दस्तावेज़ों पर दस्तखत के बारे में परनामी ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि ये हस्ताक्षर किस संदर्भ में हैं और जब तक ये जानकारी न हो कुछ भी कहना वाजिब नहीं है.

'भाजपा के लिए मुश्किल'

परनामी ने कहा कि कांग्रेस मुख्यमंत्री की छवि बिगाड़ने की कोशिश कर रही है.

उधर कांग्रेस के नेता ललित माकन और सचिन पायलट ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वसुंधरा राजे को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption कांग्रेस नेता सचिन पायलट

सचिन पायलट ने कहा, "भाजपा लगातार पारदर्शिता, भ्रष्टाचार विरोध और काले धन की वापसी की बात करती रही है. लेकिन जिस व्यक्ति ने इन तीनों चीज़ों का अपने फायदे के लिए पूरा इस्तेमाल किया, जो भागा हुआ है, उस ललित मोदी की मदद करने वाले शपथपत्र पर वसुंधरा राजे के दस्तखत हैं, उन पर आज तक कोई कारवाई नहीं की गई."

राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि इस मुद्दे ने भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं.

विश्लेषकों के अनुसार इस दौरान केंद्रीय नेतृत्व और वसुंधरा राजे के बीच दूरियां बढ़ी हैं.

वसुंधरा राजे ने भी जयपुर में अपने समर्थकों से सलाह मशविरा किया है. 28 जून को होने वाली नीति आयोग की बैठक के लिए राजे ने अपना लंदन दौरा भी रद्द कर दिया है.

अब कयास ये लगाए जा रहे हैं कि वसुंधरा राजे केंद्रीय नेतृत्व से मिलने दिल्ली जाएंगी कि नहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार