'छात्राओं को दिख रहा है भूत', कई बीमार

छात्रा इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फ़ाइल फ़ोटो.

पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी ज़िले में चेंगमारी चाय बागान के स्कूल में कथित रूप से ‘भूत’ दिखने से छात्राओं के बेहोश होने का मामला सामने आया.

छात्राओं का कहना है कि क़रीब एक महीने से उनकी कक्षा में ‘भूत’ आने लगा है.

कुछ दिन पहले क़रीब 15 छात्राएं जब पहली बार बेहोश हो गईं तो स्कूल के शिक्षकों को लगा कि वो गर्मी के कारण बेहोश हुई हैं.

इसलिए गर्मी की छुट्टी भी जल्दी ही दे दी गई थी, लेकिन सोमवार से जब दोबारा स्कूल खुला तो फिर से छात्राएं बेहोश होने लगीं.

मंगलवार को भी तीन छात्राओं को ‘भूत’ दिखा और वो बेहोश हो गईं.

चाय बगान के कर्मचारी कुलदेव टोप्पो का कहना है, “बच्चों को दोपहर 12 से एक बजे के बीच सरदर्द हो रहा है और वो बेहोश हो जा रहे हैं. ऐसा लगता है कि यह मिर्गी का दौरा है. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है.”

केवल छात्राएं बीमार

इमेज कॉपीरइट
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

उनके मुताबिक़, “स्कूल में छात्र और छात्राएं दोनों पढ़ते हैं लेकिन यह घटना केवल छात्राओं के साथ ही हो रही है. उन्हें भूत दिखाई दे रहा है.”

चाय बागान के अस्पताल में ही बच्चों को भर्ती कराया जा रहा है लेकिन बच्चे डर रहे.

अस्पताल के चिकित्सक उत्पलेंदु मलिक का कहना है, “छात्राओं का कहना है कि एक महिला सफ़ेद साड़ी पहन कर आ रही है और किसी को पीट रही है तो किसी का गला काट दे रही है. उन्हें समझया जा रहा है कि भूत जैसी कोई चीज़ नहीं होती और डरने की ज़रूरत नहीं है. ये बच्चे चाय बागान के हैं जहां इस तरह की मान्यता है.”

नागरा कटा ब्लॉक के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुभजीत हवालदार इन छात्राओं से मिलने खुद ही गए थे.

डॉ. हवालदार का कहना है कि, “ये मनोरोग है, कोई भूत नहीं है. इन बच्चों को एनीमिया जैसी बीमारी नहीं है. ये भी पता चला कि वो भूखे पेट स्कूल नहीं आए थे.”

स्थानीय मान्यता

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

डॉ. हवालदार के मुताबिक़, “इन बच्चों को मनोचिकित्सक के पास ले जाने का सरकार ने फैसला लिया है.”

नागरा कटा इलाक़े के कई लोग ये मानते हैं कि वहां भूत है.

बहुत साल पहले चाय बागान के दो ब्रितानी अधिकारियों की अस्वाभाविक मौत हो गई थी. एक बाढ़ के पानी में बह गए थे और दूसरे की हत्या हो गई थी.

स्थानीय लोगों का मानना है कि वो दोनों ही इलाक़े में भूत बनकर घूमते रहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)