'मंत्री के लिए विमान से उतारा गया परिवार'

इमेज कॉपीरइट Getty

भारतीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू की सोशल मीडिया पर ख़ासी आलोचना हो रही है.

आलोचना इन मीडिया रिपोर्टों के बाद शुरू हुई कि उन्हें जगह देने के लिए एयर इंडिया के एक विमान से एक बच्चे समेत तीन लोगों के परिवार को उतार दिया गया.

'द इकॉनोमिक टाइम्स' का कहना है कि इस पूरी प्रक्रिया में एयर इंडिया का विमान एक घंटा देर से उड़ पाया.

बहुत से लोगों ने मंत्री को दिए गए इस कथित 'वीआईपी ट्रीटमेंट' के ख़िलाफ़ ग़ुस्सा जताया है.

रिजिजू का कहना है कि उन्हें नहीं पता था कि उनकी वजह से एक परिवार को विमान से उतारा गया.

मंत्री ने कहा कि उनकी वजह से उड़ान में देरी नहीं हुई. उनका कहना था कि एयर इंडिया ने अपनी फ्लाइट के समय में बदलाव किया था और सूचना देने में गड़बड़ी हुई.

वहीं भारत सरकार के प्रमुख प्रवक्ता फ़्रैंक नोरोन्हा ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने एयर इंडिया की उड़ान में देरी के लिए रिपोर्ट माँगी है.

सोशल मीडिया पर ग़ुस्सा

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार ये घटना 24 जून की है और विमान लेह से दिल्ली के लिए उड़ान भरने वाला था कि तभी वायुसेना के एक अधिकारी, उनकी पत्नी और बच्चे को विमान से उतरने को कहा गया.

रिपोर्टों के मुताबिक ऐसा 'ऐन वक्त पर आए यात्रियों के लिए' किया गया जिनकी पहचान बाद में रिजिजू, उनके एक सहायक और जम्मू कश्मीर के उप मुख्यमंत्री निर्मल सिंह के रूप में हुई.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ट्विटर पर @imvinays हैंडल से लिखा गया, "भारतीय सेना के एक अधिकरी और उनके परिवार उतार दिया गया ताकि किरण रिजिजू को जगह दी जा सके. शर्म करो मोदी सरकार."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

वहीं @Gayatritwit से लिखा गया, "शर्म की बात है, अगर तीन यात्रियों को एयर इंडिया की फ्लाइट से इसलिए उतार दिया गया कि मंत्री रिजिजू को बिठाया जा सके. पूरी तरह ग़लत और अस्वीकार्य है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

एक अन्य ट्विटर हैंडल @Congwala ने लिखा, "यात्रियों कृपया ध्यान दें. एयर इंडिया में सफर करने से पहले किरण रिजिजू का कार्यक्रम जरूर चेक कर लें."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार