मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी के 5 फ़ायदे

मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी इमेज कॉपीरइट AFP

शुक्रवार से पूरे भारत में मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी सुविधा शुरू हो गई है.

अब उपभोक्ता चाहें तो अपना नंबर बदले बिना देश के किसी भी कोने में जा सकते हैं और किसी दूसरी टेलीकॉम कंपनी से कनेक्शन ले सकते हैं.

सरकार की तरफ़ से गुरुवार को एक बयान में कहा गया कि ये सुविधा लागू की जा रही है.

वोडाफ़ोन, एयरटेल, एमटीएस, आईडिया, रिलायंस, बीएसएनएल और एमटीएनएल ने शुक्रवार से यह सुविधा देनी शुरू कर दी.

इससे आपको क्या फ़ायदे होंगे -

1. आप शहर बदल रहे हैं तो एक नई जगह जाने पर नया नंबर लेने की ज़रूरत नहीं. एक जगह से सर्विस बंद कराइए और आपका पुराना नंबर आपका ही बना रहेगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

2. आधार कार्ड में फ़ोन नंबर देने के बाद शहर बदलने पर आपकी चिंता भी कम हो जाएगी.

3. अब फ़ोन बदलने के साथ डाटा खोने का डर भी नहीं रहेगा. सिम के सारे नंबर आप पुराने सर्विस प्रोवाइडर को एक आवेदन दे कर प्राप्त कर सकते हैं.

4. आप दूसरे सर्किल में अच्छा नेटवर्क या सस्ते दाम वाली सर्विस चुन सकते हैं.

5. कंपनियों में भी अच्छी दरों पर पोस्टपेड और प्रीपेड सुविधाएं देने के लिए कंपीटिशन बढ़ेगा.

कुछ इलाके रहेगें महरूम

एयरटेल ने कहा है कि जम्मू कश्मीर, असम और पूर्वोत्तर के राज्यों में सुरक्षा कारणों से यह सुविधा नहीं लागू की जाएगी.

पूरे भारत में फुल मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी 3 नवंबर से लागू होने वाली थी.

बाद में दूरसंचार विभाग ने इसी साल 5 मई को इसकी अवधि को दो महीने और बढ़ा दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार