ज़मीन में एक लाख टन सोना मिलने की उम्मीद

झारखंड में मिला है सोना का अकूत भंडार इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

झारखंड की राजधानी रांची के पास तमाड़ के इलाक़े में ज़मीन के नीचे दबा हुआ है एक लाख टन सोना.

यह उम्मीद भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण यानी जीएसआइ के वैज्ञानिकों ने जगाई है. झारखंड में पहले भी एक जगह सोने का भंडार होने की बात सामने आई थी. लिहाजा, इस संभावना पर भी सरकारी अमला काम करने की योजना बना रहा है.

झारखंड के गर्भ में छिपा है सोना

इमेज कॉपीरइट allardpiersonmuseum.nl

इस बार की बारिश के बाद रांची के पास तमाड़ में पांच वर्ग किलोमीटर के इलाक़े में ड्रिलिंग का काम शुरू किया जाएगा. यहां पहले भी ड्रिलिंग की जा चुकी है. उसमें वैज्ञानिकों को सोने का भंडार होने के लक्षण मिले थे. वे नमूने राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप ही थे.

यहां क़रीब एक लाख टन सोने का भंडार होने की संभावना है. इसकी बाज़ार में क़ीमत क़रीब 25,000 करोड़ रुपए है.

गोल्ड ब्लॉक

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

झारखंड के पूर्व भूतत्व निदेशक जेपी सिंह का दावा है कि उन्होंने जीएसआई से यह रिपोर्ट मंगवाई थी. अंतिम रिपोर्ट सरकार को अब तक नहीं मिली है. इस रिपोर्ट के मिलते ही वहां खुदाई का काम शुरू कर दिया जाएगा.

शुरुआती रिपोर्ट में तमाड़ के सिंदुरी, लुंगटु, हेपसेल और परासी में ज़मीन के नीचे सोने का अकूत भंडार होने का दावा किया गया है. रिपोर्ट मिलने के बाद लुंगटू-हेपसेल-परासी ब्लॉक बनाया जाएगा.

यह पूर्वी सिंहभूम के कुंडेररकोचा (पोटका) के बाद झारखंड का दूसरा गोल्ड ब्लॉक होगा. तमाड़ का यह इलाका रांची से तक़रीबन 60 किलोमीटर की दूरी पर है.

जीएसआई की ड्रिलिंग

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

इस इलाके में पहली बार साल 2006 में ड्रिलिंग की गई थी. झारखंड में जीएसआई के उस समय के निदेशक आरके प्रसाद ने 2011 में इस बाबत एक चिट्ठी सरकार को लिखी थी. ख़त में तमाड़ में ज़मीन के नीचे सोने का खज़ाना होने की बात कही गई थी.

यह भी बताया गया था कि पहले चरण में 12 जगहों पर ड्रिलिंग की गई.

इसके बाद 12 दूसरे जगहों पर भी खुदाई की गई. जीएसआई के लिए खुदाई करने वाली संस्था मिनरल एक्सप्लोरेशन कारपोरेशन लिमिडेट यानी एमइसीएल की रिपोर्ट भी इस बात की तसदीक करती है.

इस खनन में लगभग सवा चार लाख रुपए खर्च हुए थे. इसके बाद इंडियन ब्यूरो आफ माइंस के अधिकारियों ने भी यहां सर्वे किया था.

सुवर्णरेखा के बालू में सोना

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

तमाड़ का सिंदुरी और परासी गांव सुवर्णरेखा नदी के नज़दीक ही है. छोटानागपुर की घाटी से निकलने वाली इस नदी के बालू में सोना होने की बात कही जाती है.

बरसात के दिनों में गांव के लोग बालू में सोने का कण खोजते हैं. रांची के सुनार यही कण 200-300 रुपए में इनसे खरीद लेते हैं. यह वर्षों पुरानी परंपरा है, जो आज भी बदस्तूर जारी है.

तमाड़ में 30 करोड़ टन से भी ज़्यादा स्वर्ण अयस्क होने का अनुमान है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार