भय का माहौल, मैं भी डरी हुई हूँ: उमा भारती

उमा भारती
Image caption पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने कहा कि मेरा नाम भी व्यापमं घोटाले में आया था और मुझे भी डर लगता है.

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा है कि व्यापमं घोटाले में हो रही संदिग्ध मौतों के कारण राज्य में भय का माहौल है और मंत्री होने के बावजूद वो ख़ुद डरी हुई हैं.

पत्रकारों से बात करते हुए उमा भारती ने वित्त मंत्री अरुण जेटली की सक्षम एजेंसी से जाँच की बात को दोहराते हुए कहा कि 'लगातार इस प्रकार की घटनाओं से राज्य में जो चिंता फैली है उसमें सक्षम एजेंसी से अगर जाँच का कोई रास्ता निकल सके तो निकालना चाहिए.'

जब उनसे सीबीआई जाँच के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि ये फ़ैसला न्यायालय ही कर सकता है जिसके निरीक्षण में एसटीएफ़ जाँच कर रही है.

शिवराज के लिए चिंता

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption व्यापमं घोटाले में हो रही संदिग्ध मौतों के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सवालों में घिरे हैं.

उमा भारती ने कहा, "जब मेरा नाम व्यापमं घोटाले में आया था तो मैं मानसिक पीड़ा का शिकार हुई थी. व्यापमं घोटाले से जुड़े लोग भी हो सकता है ऐसे ही हालात और पीड़ा से गुज़र रहे हों."

उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के बारे में कहा, "मैं शिवराज जी के लिए बहुत चिंतित हूँ. वो स्वयं बहुत संवेदनशील व्यक्ति हैं और इस घटनाक्रम से बहुत दुखी होंगे."

उमा ने कहा, "मुझे लग रहा है कि राज्य में डर का माहौल है और शिवराज को कोई रास्ता खोजना होगा."

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सक्षम एजेंसी को जाँच करनी चाहिए

ग़ौरतलब है कि केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने व्यापमं घोटाले की सीबीआई से जाँच के बारे में कहा है कि मामले की जांच उच्च न्यायलय के निरीक्षण में हो रही है और वह हो रही जांच से संतुष्ट है.

व्यापमं घोटाला

मध्य प्रदेश का व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) प्री-मेडिकल, प्री-इंजीनियरिंग टेस्ट के साथ-साथ कई सरकारी नौकरियों के लिए परीक्षा कराता है.

आरोप हैं कि इन परीक्षाओं में कई सालों तक कथित तौर पर जमकर भ्रष्टाचार हुआ. हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एसआईटी इस घोटाले की जांच कर रही है.

इस मामले से जुड़े 30 से ज़्यादा अभियुक्तों और जांच करने वालों की एक के बाद एक मौत हुई है और ये बात एसआईटी भी मानती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार