व्यापमंः राज्यपाल के ख़िलाफ़ याचिका मंज़ूर

राम नरेश यादव इमेज कॉपीरइट S Niazi
Image caption मध्य प्रदेश के राज्यपाल राम नरेश यादव के बेटे की संदिग्ध मौत हुई थी.

सुप्रीम कोर्ट व्यापमं घोटाले से मध्य प्रदेश के राज्यपाल के कथित तौर पर जुड़े होने और इस कारण से उन्हें पद से हटाए जाने की मांग के मामले की सुनवाई के लिए तैयार हो गया है.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दायर एक याचिका को सुनवाई के लिए स्वीकार किया है.

राज्यपाल राम नरेश यादव के बेटे शैलेश यादव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. वे व्यापमं घोटाले में अभियुक्त थे.

उधर पत्रकार अक्षय सिंह और मेडिकल कॉलेज डीन अरुण शर्मा की मौत की ख़बर के बाद सांगर में एक महिला सब इंस्पेक्टर की मौत की ख़बर आई है.

मध्य प्रदेश का व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) प्री-मेडिकल, प्री-इंजीनियरिंग टेस्ट के साथ-साथ कई सरकारी नौकरियों के लिए परीक्षा कराता है.

इमेज कॉपीरइट Vipul Gupta BBC
Image caption मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कहना है कि हर मौत को व्यापमं से ना जोड़ें.

आरोप हैं कि इन परीक्षाओं में कई सालों तक कथित तौर पर जमकर भ्रष्टाचार हुआ. हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एसआईटी इस घोटाले की जांच कर रही है.

इस मामले से जुड़े 30 से ज़्यादा अभियुक्तों और जांच करने वालों की एक के बाद एक मौत हुई है और ये बात एसआईटी भी मानती है.

एक और मौत?

मध्य प्रदेश के सागर में एक महिला सब महिला सब इंस्पेक्टर की संदिग्ध हालात में मौत को भी स्थानीय मीडिया व्यापमं घोटाले से ही जोड़कर देख रहा है.

आजतक के पत्रकार अक्षय सिंह और जबलपुर मेडिकल कॉलेज के डीन अरुण शर्मा की संदिग्ध मौतें के बाद इसे 48 घंटे में तीसरी संदिग्ध मौत माना जा रहा है.

सागर पुलिस अकादमी में ट्रेनिंग कर रही अनामिका कुशवाहा की लाश आज सुबह एक तालाब से मिली है. अनामिका 2014 बैच की थीं और व्यापमं से ही चुन कर आई थीं.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है, "उस दुखद घटना का व्यापमं या व्यापमं की जाँच से कोई संबंध नहीं हैं. इस दुखद घटना को व्यापमं से ना जोड़ें."

46 या 47 मौतें?

उधर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा, "ये कहना मुश्किल है कि किस कारण से उनकी मौत हुई है. लेकिन इसकी जाँच होनी चाहिए."

दिग्विजय सिंह ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज चौहान कब तक सीबीआई की जाँच से बचते रहेंगे.

इमेज कॉपीरइट VIPUL GUPTA

दिग्वजय ने ट्वीट कर सवाल किया था, 'व्यापमं से चुनी गई सागर पुलिस अकादमी में ट्रेनिंग ले रही कॉप ने सुसाइड किया. 46 वीं या 47वीं?'

मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मेडिकल कॉलेज के डीन अरुण शर्मा और अनामिका की मौत का व्यापमं जाँच से कोई संबंध नहीं है.

उन्होंने कहा कि अनामिका की मौत को भी व्यापमं से जोड़कर देखा जा रहा है जबकि उनके पिता ने कहा है कि वो पारिवारिक कलह से परेशान थी.

छह को बर्ख़ास्त किया था

स्थानीय संवाददाता राजेश चतुर्वेदी के मुताबिक सागर के पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर ने बताया है कि प्रारंभिक जांच में यह आत्महत्या का मामला लग रहा है.

पुलिस के अनुसार अनामिका विवाहित थीं, इस मामले की जांच हो रही है और उनके परिजनों से बात करने के बाद स्थिति और स्पष्ट होगी.

अतुलकर के मुताबिक तड़के लगभग 5 बजे अकादमी परिसर से लगे तालाब में अनामिका ने छलांग लगाई थी.

फ़रवरी 2014 में सागर पुलिस अकादमी ने 6 प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टरों को बर्ख़ास्त किया था. ग़ौरतलब है कि इस लिस्ट में महिला सब इंस्पेक्टर अनामिक का नाम नहीं था.

इन सभी पर फ़र्जी उम्मीदवारों के ज़रिए परीक्षा पास करने के आरोप थे.

ऐसा वर्ष 2013 में एसआई की भर्ती के लिए व्यापमं प्रवेश परीक्षा की जांच में लाखों रुपए के कथित लेन-देन की बात सामने आने के बाद हुआ था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार