थाने गई महिला जल कर मरी, न्यायिक जांच

बाराबंकी पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद इमेज कॉपीरइट Barabanki Police
Image caption पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद ने ख़ुद मौक़े पर जाकर जाँच की.

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी ज़िले में थाने में गई एक महिला के जलकर मर जाने का मामला सामने आया है.

इस मामले में दो पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पूरे मामले के न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं.

पुलिस का दावा है कि महिला ने ख़ुद को थाने के बाहर आग लगाई, हालाँकि इस मामले में जांच चल रही है और असलियत जांच के बाद ही सामने आएगी.

बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद ने बीबीसी को बताया, "मृतक महिला का नाम नीतू द्विवेदी है, उनके पति को पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया था."

इमेज कॉपीरइट Barabanki Police
Image caption पुलिस अधीक्षक का कहना है कि महिला के बयान के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

उनके अनुसार, "महिला को आग थाने के अंदर नहीं बाहर लगी है. मौके पर जाकर मैने पाया है कि फ़ोरेंसिक सबूत दिखाते हैं कि आग थाने के अंदर नहीं लगाई गई है. जिस जगह पर आग लगी है और जो सबूत सामने आए हैं वो दिखाते हैं कि आग थाने के बाहर लगाई गई."

मजिस्ट्रेट के सामने बयान

पीड़ित महिला की लखनऊ में इलाज के दौरान मौत हो गई है. मरने से पहले महिला ने अपना बयान मजिस्ट्रेट को दिया है.

पुलिस का कहना है कि आगे की कार्रवाई इसी बयान की जाँच के आधार पर की जाएगी.

अब्दुल हमीद ने बताया, "संबंधित थानाध्यक्ष और सब इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है."

उन्होंने बताया कि मृतक महिला के भाई के ख़िलाफ़ पुलिस ने हत्या के प्रयास का एक मामला दर्ज किया था.

मृतक महिला के पति राम नारायण द्विवेदी को इसी संबंध में पूछताछ के लिए पुलिस थाने लेकर आई थी.

पीड़ित परिवार का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें छोड़ने के बदले महिला से रिश्वत मांगी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार