'हर फ़ालतू मुद्दे पर पीएम नहीं बोलते'

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption व्यापमं घोटाले पर ख़ामोश मोदी आजकल मध्य एशियाई देशों के दौरे पर हैं.

मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले पर केंद्रीय क़ानून मंत्री सदानंद गौड़ा के बयान पर विवाद छिड़ गया है.

उदयपुर में एक समारोह के दौरान सदानंद गौड़ा से जब पत्रकारों ने पूछा कि व्यापमं घोटाले पर प्रधानमंत्री की चुप्पी का कारण क्या है, तो गौड़ा भड़क गए.

उन्होंने कहा, "कुछ मुद्दे बेहद साधारण और फालतू होते हैं, उन पर ज़रूरी नहीं है कि प्रधानमंत्री जवाब दें."

गौड़ा ने कहा, "हमारी पार्टी के अध्यक्ष, देश के गृहमंत्री और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों ने इस मुद्दे पर बयान दे दिया है जिसके बाद प्रधानमंत्री के बयान की कोई ज़रूरत नहीं है."

व्यापमं घोटाले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कथित चुप्पी पर सोशल मीडिया पर भी सवाल उठे हैं और मंगलवार को ट्विटर पर हैशटेग #BolModiBol भी ट्रेंड में शामिल रहा.

विवादास्पद बयान

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क़ानून मंत्री सदानंद गौड़ा ने कहा है कि हर फ़ालतू मुद्दे पर प्रधानमंत्री बयान नहीं देंगे.

सदानंद गौड़ा पहले मंत्री नहीं है जिन्होंने ऐसा बयान दिया है.

इससे पहले मध्य प्रदेश के मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने पत्रकार की संदिग्ध मौत पर टिप्पणी करते हुए कहा था, "पत्रकार-वत्रकार क्या है, क्या पत्रकार हमसे बड़ा है."

हालांकि इस बयान के बाद उन्होंने सफ़ाई पेश करते हुए कहा था कि उनके बयान को ग़लत संदर्भ में लिया गया.

मध्य प्रदेश की ही एक और मंत्री बाबूलाल गौर ने व्यापमं घोटाले में हो रही संदिग्ध मौतों पर टिप्पणी करते हुए कहा था, "जो आया है वो जाएगा भी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार