मोबाइल डेटा पर ख़र्च कैसे काबू में रखें?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

अगर आपके फ़ोन पर अनलिमिटेड मोबाइल डेटा प्लान नहीं है या आप वाई-फाई नेटवर्क से जुड़े हुए नहीं हैं तो आप डेटा को ज़रा ध्यान से इस्तेमाल कीजिए.

डेटा प्लान के बाहर अगर अधिक डेटा ख़र्च हो तो यह आपको काफ़ी महँगा पड़ सकता है.

एंड्रॉयड पर आप मोबाइल डेटा के लिए सीमा तय कर सकते हैं कि कौन-सा ऐप महीने में कितना डेटा इस्तेमाल कर सकता है. सिर्फ वीडियो देखने या फेसबुक पर समय बिताने से डेटा का इस्तेमाल बढ़ता नहीं है.

ऐसे कई प्रोग्राम हैं जो डेटा सर्विस ऑन रहने की वजह से बैकग्राउंड में चलते रहते हैं, जैसे जीपीएस या ईमेल.

सेटिंग में बदलाव करें

इमेज कॉपीरइट AFP

ऐप अपडेट करने के लिए भी बहुत डेटा इस्तेमाल होता है. आप चाहें तो सेटिंग्स में बदलाव कर सकते हैं ताकि सिर्फ़ वाई-फ़ाई से कनेक्टेड होने पर ही ऐप अपडेट होगा, मोबाइल डेटा पर नहीं.

गूगल प्ले में जाकर जो ऊपर में बाईं तरफ तीन लाइन का आइकॉन है उस पर टैप करें और उसके बाद सेटिंग्स पर क्लिक करें. उसके बाद 'ऑटो अपडेट ऑफ़ ऐप ऑन वाई-फ़ाई ओनली' को चुन लीजिए.

महीने भर के लिए कितना डेटा का इस्तेमाल करना है यह आप तय कर सकते हैं, इसके लिए अपने बिलिंग साइकिल का ध्यान रखें ताकि पूरे महीने में अगला बिल आने तक आप इस्तेमाल की सीमा के भीतर ही रहें.

बैकग्राउंड में ऐप्स को रखें बंद

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर आप ऐप्स में जाकर बैकग्राउंड डेटा विकल्प को बंद कर देंगे तो आपके डेटा का इस्तेमाल घट जाएगा.

अपने स्क्रीन को नीचे की तरफ स्वाइप कीजिये, उसके बाद सेटिंग्स और फिर डेटा पर क्लिक कीजिए. उसके बाद आपको वो ऐप दिखाई देंगे जो आपके बैकग्राउंड डेटा का इस्तेमाल कर रहे हैं. 'डिज़ेबल बैकग्राउंड डेटा ऑन मोबाइल नेटवर्क' के विकल्प को चुन लीजिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)