माँ-बाप पर बेटी से देह व्यापार कराने का आरोप

केरल पुलिस ने 13 साल की किशोरी से दो साल तक देह व्यापार कराने के आरोप में उसकी माँ और सौतेले पिता को गिरफ्तार किया है.

किशोरी की माँ ने एक स्थानीय टीवी चैनल को बताया कि वो एक ग्राहक से तीन हज़ार रुपए लेते थे और किशोरी को महीने में कम से कम एक बार किसी ग्राहक के पास भेजा जाता था.

अपने पहली की शादी से इस महिला का एक बेटा और बेटी भी है.

पुलिस ने किशोरी के 18 साल के भाई के ख़िलाफ़ भी उसकी 11 वर्षीय छोटी बहन के यौन उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज किया है.

किशोरी की 37 वर्षीय माँ के कुल सात बच्चे हैं. उनकी सबसे बड़ी संतान 24 साल और सबसे छोटी चार साल की है.

यह परिवार केरल के मुस्लिमबहुल मल्लपुरम ज़िले में एक किराए के मकान में रहता है.

भाई पर मुकदमा

पुलिस ने उन 40 कथित 'ग्राहकों' में से 25 की पहचान कर ली है, जिनके पास किशोरी को भेजा गया.

पुलिस ने 55 साल के एक दलाल और नौ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है.

इस मामले का पता तब चला जब बच्चों के लिए काम करने वाली संस्था चाइल्डलाइन के काउंसलर सोमवार को इस किशोरी के स्कूल में पहुंचे.

बच्ची ने उन्हें बताया कि उसके माता-पिता उसे उससे चार गुना अधिक आयु के लोगों के पास भी भेजते थे.

इसके बाद बच्ची को एक सरकारी आश्रय गृह में पहुंचा दिया गया. बलात्कार की पुष्टि के लिए उसकी मेडिकल जांच की गई.

चाइल्डलाइन के स्वयंसेवकों ने इस किशोरी की छोटी बहनों को भी पुलिस की मदद से आश्रय गृह पहुंचाया.

फ़ोटो और ग्राहक

इमेज कॉपीरइट AFP

महिला के 55 साल के पति ड्राइवर का काम करते हैं.

उन्होंने पुलिस को बताया, "मैं बच्ची की फ़ोटो दिखाकर ग्राहक को आकर्षित करता था. मेरी शादी 15 साल पहले हुई थी."

लेकिन वो इसका कोई प्रमाण नहीं पेश कर सके.

इससे पहले पुलिस ने कोच्ची में 2011 में एक पुरुष और उसकी पत्नी को ऐसे ही मामले में गिरफ्तार किया था.

उन दोनों पर अपनी एक नाबालिग बच्ची को क़रीब दो सौ लोगों के पास देह व्यापार के लिए भेजने का आरोप था.

इस मामले में पुलिस ने 148 लोगों के खिलाफ़ मामला दर्ज किया था.

इमेज कॉपीरइट epa

एक व्यक्ति ब्रिटेन में डॉक्टर था, जो बाद में सऊदी अरब चले गए और आत्महत्या कर ली.

इस बच्ची के पिता एक फ़िल्म अभिनेता थे, जिन्होंने उसके साथ 2009 में पहली बार बलात्कार किया था.

अदालत ने पिता को आजीवन कारावास और माँ को 14 साल के जेल की सजा सुनाई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार