यौन उत्पीड़न: कई जनप्रतिनिधि गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

छत्तीसगढ़ के कोरबा ज़िले के एक आदिवासी छात्रावास में छात्राओं के साथ कथित यौन उत्पीड़न और दुष्कर्म की कोशिश के मामले में पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया है.

गिरफ्तार लोगों में जनपद अध्यक्ष, ज़िला पंचायत के उपाध्यक्ष और इलाके के विधायक प्रतिनिधि भी शामिल हैं. इस मामले में स्थानीय अख़बारों के दो पत्रकार समेत 6 लोग फरार हैं.

इलाके के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किर्तन राठौर के अनुसार इस मामले में छात्रावास की अधीक्षिका और पीड़िता की शिकायत के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है.

इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

आरोप है कि ज़िले के पाली इलाके में आदिवासी छात्रावास के निरीक्षण के नाम पर ये सभी राजनेता और पत्रकार छात्रावास पहुंचे थे. छात्रावास की अधीक्षिका वहां नहीं थीं. इसके बाद जनपद अध्यक्ष ने नौवीं कक्षा की एक छात्रा को अलग कमरे में ले जा कर कथित दुष्कर्म की कोशिश की.

थाने का घेराव

गुरुवार को पाली इलाके में आदिवासी छात्राओं ने अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पंचायत कार्यालय और थाने का घेराव भी किया.

इसके बाद 11 में से 5 अभियुक्तों को गिरफ्तारी के बाद स्थानीय अदालत में पेश किया गया जहां अदालत ने सभी अभियुक्तों को जेल भेजने के आदेश दिए.

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा, “छत्तीसगढ़ के आदिवासी छात्रावासों में छोटी-छोटी लड़कियां असुरक्षित हैं. मामले की जांच हो तो राज्य में कई झलियामारी कांड के राज खुल सकते हैं.”

साल 2013 में बहुचर्चित झलियामारी कांड में कांकेर ज़िले के एक आदिवासी छात्रावास में 11 आदिवासी बच्चियों के साथ महीनों तक बलात्कार का मामला सामने आया था.

इसके बाद राज्य के कई आदिवासी छात्रावासों में भी इस तरह बच्चियों के साथ छेड़खानी और बलात्कार की घटनाएं सामने आई थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार