झारखंड: नदियां उगल रही हैं सोना?

झारखंड की नदियों की रेत से सोना चुनता ग्रामीण इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

झारखंड में न सिर्फ धरती के गर्भ में सोने का भंडार है, बल्कि यहां की नदियां भी सोना उगल रही हैं. वह भी सालों से.

हालांकि ये किसी को नहीं पता कि नदियों की रेत में सोना कहां से आता है.

लेकिन सुवर्णरेखा और इसकी सहायक करकरी जैसी नदियों की रेत मे सोने के बेहद महीन कणों के मिलने का सिलसिला सालों से जारी है.

इन नदियों के किनारे बसे गांवों के लोगों के लिए ये कण रोजगार का साधन बने हुए हैं. रेत से सोना निकालने की प्रक्रिया काफ़ी जटिल होने के बावजूद ग्रामीण इस काम में लगे हुए हैं.

किसी-किसी परिवार के लोग तो पीढ़ी दर पीढ़ी इसी काम में लगे हैं.

रेत से चुनते हैं सोना

झारखंड के तमाड़ इलाके के पुरनानगर, नोढ़ी, तुलसीडीह, कडरुडीह आदि गांव के लोग नज़दीक बहने वाली करकरी नदी की रेत से सोना निकालते हैं. यह काम पूरे साल चलता है.

बरसात के दिनों में नदी में ज्यादा पानी आ जाने से कुछ दिनों के लिए सोना निकालने का काम रुक जाता है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

पुरनानगर के दुलाल रविदास ऐसे ही एक शख्स हैं. रोज सुबह करकरी नदी की धार मे खड़े होकर रेत से सोना चुनना ही इनका पेशा है.

तारिणी देवी भी यही करती हैं. तारिणी ने बताया कि सुबह खाना बनाने के बाद वे यहां सोना चुनने आ जाती हैं. 3-4 घंटे तलाशने के बाद उन्हें सोने के चार-पांच कण मिल जाते हैं.

सोने के ये कण चावल के दाने के बराबर होते हैं.

स्थानीय सुनार 80-100 रुपये प्रति कण के हिसाब से इन्हें खरीद लेते हैं और फिर इसे रांची के बाजार में प्रति कण 250-300 के हिसाब से बेच देते हैं.

इस तरह सोना चुनने वाला एक शख्स महीने में औसतन 4000 रुपये तक कमा लेता है.

सोने की चिड़िया झारखंड

तारिणी का मायका परासी में है. वहां जीएसआई ने सोने की खान होने की संभावना जताई है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

तारिणी ने बताया कि कई बार घंटों नदी की धार मे खड़े होने के बावजूद सोने के कण नहीं मिलते. इसके लिए काफ़ी सब्र रखना होता है. कई बार जल्दी ही ज्यादा कण मिल जाते हैं.

जाने-माने भूवैज्ञानिक नीतीश प्रियदर्शी ने बताया कि स्वर्णरेखा और करकरी जैसी नदियां अपने उदगम स्थल से नीचे आते-आते कई तरह की चट्टानों से टकराती हैं.

इसी दौरान इनमें सोने के अति सूक्ष्म कण मिल जाते हैं. इन्हीं कणों को गांव के लोग चुनते हैं.

उन्होंने बताया कि न केवल स्वर्णरेखा और करकरी बल्कि कोयल व दामोदर जैसी नदियों से भी कुछ खास इलाकों में सोने के कण निकाले जाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार