रैली के लिए मोदी ने मुजफ़्फ़रपुर क्यों चुना?

पटना रैली में नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट PTI

हालांकि अमित शाह ने कुछ दिनों पहले पटना में 160 चुनावी रथ रवाना कर चुनाव अभियान शुरू कर दिया है. लेकिन 25 जुलाई को मुज़फ़्फ़रपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से एनडीए असल चुनाव अभियान शुरू करेगी.

इस रैली की सफलता और मतदाताओं पर इसका असर एनडीए के चुनाव अभियान की दशा दिशा तय करेंगे. इसलिए एनडीए के लिहाज से यह रैली काफी महत्वपूर्ण है.

मुजफ़्फ़रपुर रैली की राजनीतिक अहमियत को समझने के लिए उस क्षेत्र में मतदाताओं और उनके ऐतिहासिक झुकाव को समझना ज़रूरी है.

मुजफ़्फ़रपुर से जुड़ी छह अहम बातें

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

1) मुजफ़्फ़रपुर संसदीय क्षेत्र 6 अन्य बेहद अहम संसदीय क्षेत्रों से घिरा हुआ है. ये क्षेत्र हैं - पूर्वी चंपारण, सीतामढ़ी, दरभंगा, समस्तीपुर, वैशाली और सारण. इन सात संसदीय क्षेत्रों में कुल 42 विधानसभा सीटें आती हैं.

2) साल 2010 के विधानसभा चुनाव में भाजपा तथा जदयू गठबंधन ने साथ चुनाव लड़ा था.

राष्ट्रीय जनता दल तथा लोक जनशक्ति पार्टी साथ थी और कांग्रेस ने अकेले चुनाव लड़ा था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

3) साल 2010 के चुनाव में जदयू ने इस क्षेत्र की 24 सीटों पर, भाजपा ने 18, राजद ने 32, लोजपा ने 10 तथा कांग्रेस ने सभी 42 सीटों पर चुनाव लड़ा था.

4 ) भाजपा की सफलता दर 100 प्रतिशत थी और उसने सभी 18 सीटों पर जीत हासिल की थी. जबकि जदयू ने 79.16 फ़ीसदी सफलता दर के साथ 19 सीटें जीती थीं और राजद ने 15.62 फ़ीसदी सफलता के साथ पांच सीटों पर जीत हासिल की थी. लोजपा तथा कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली थी.

5) साल 2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए के घटक दल बदल गए थे. इस गठबंधन से भाजपा ने इस इलाक़े के सात संसदीय क्षेत्रों में चार पर, लोजपा ने दो तथा भालोसपा ने एक सीट पर चुनाव लड़ा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

41.64 प्रतिशत वोट शेयर के साथ गठबंधन ने सातों सीटों पर जीत हासिल की थी. हालांकि अकेले भाजपा का वोट शेयर 45 प्रतिशत था.

6) मतदान के रुझान इस ओर संकेत करते हैं कि एनडीए के लिए 42 सीटों का यह क्षेत्र काफ़ी अहम है.

एक यह बात अहम है कि इस इलाक़े में किसी भी विधानसभा क्षेत्र में किसी एक जाति विशेष की जनसंख्या 15 प्रतिशत से अधिक नहीं है.

अगर इन आंकड़ों पर गौर करें तो इस बात का सहज ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि एनडीए ने चुनाव अभियान की विधिवत शुरुआत के लिए मुजफ़्फ़रपुर को ही क्यों चुना.

(डाटामाइनएरिया से साभार)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार