याक़ूब की फांसी: जजों का मत अलग-अलग

इमेज कॉपीरइट AFP

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ सुप्रीम कोर्ट ने याक़ूब मेमन की फाँसी टालने की अपील को बड़ी बेंच के पास भेजने का फ़ैसला किया है.

याक़ूब मेमन मुंबई धमाकों के दोषी हैं और उन्हें इसी महीने की 30 तारीख़ को फ़ासी दिया जाना है.

याक़ूब मेमन की याचिका पर जस्टिस ए आर दवे और कुरियन जोसेफ़ की बेंच ने मतविभाजित फ़ैसला दिया. याक़ूब मेमन ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी थी जिसमें उन्होंने उनके मामले में डेथ वारेंट जारी किए जाने को चुनौती दी थी.

मेमन के अनुसार सभी क़ानूनी विकल्प समाप्त होने से पहले ही उनके ख़िलाफ़ डेथ वारेंट जारी कर दिया गया था जो कि उनके अनुसार ग़ैर-क़ानूनी है.

उनकी अपील को सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार करते हुए सोमवार को सुनवाई करने का फ़ैसला किया था. लेकिन सोमवार को इस पर कोई फ़ैसला नहीं हो सका और इसे मंगलवार तक के लिए टाल दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट pti

मंगलवार को दोनों न्यायाधीशों ने अलग-अलग अपना फ़ैसला सुनाया.

भारत सरकार ने अदालत में दलील दी थी कि याक़ूब मेमन अपने पास मौजूद सभी न्यायिक विकल्पों को अपना चुके हैं इसलिए उनकी फांसी नहीं टाली जानी चाहिए.

बड़ी बेंच का गठन कब होगा और उसकी सुनवाई कब होगी, अभी इस बारे में कोई भी जानकारी हासिल नहीं है

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)