आमिर के बारे में पूछा था ये लड़का कौन है..

जूही चावला इमेज कॉपीरइट AFP

बॉलीवुड फ़िल्म इंडस्ट्री में 25 साल से अधिक समय बिताने वाली अभिनेत्री जूही चावला खुद बेहद हैरान हैं कि वह फ़िल्म जगत में इतने लंबे वक्त तक कैसे टिक सकी.

जूही ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "इन 25 सालों में काफी किरदार निभाए. काफी नाच-गाना, उछल-कूद, और तो और खूब हँसना-रोना सब किया हैं. मुझे आज हैरानी है कि मैं अब तक यहां टिकी हुई हूं, जिसकी मैंने 25 साल पहले कभी कल्पना भी नहीं की थी."

जूही कहती हैं "करियर के इस मुक़ाम में आने के बाद अब तो मैं वो ही फ़िल्म करती हूँ जिसका किरदार मुझे बहुत प्रभावित करता हैं".

नहीं चली पहली फ़िल्म

अपने शुरुआती दिनों को याद करते हुए जूही भावुक हो उठती हैं.

भावुकता के साथ जूही कहती हैं, "ये बहुत कम लोग जानते होंगे की मेरे करियर की शुरुआत फ़िल्म 'क़यामत से क़यामत तक' से नहीं बल्कि फ़िल्म सल्तनत से हुई. इस फ़िल्म में बहुत बड़े-बड़े कलाकार जैसे सनी देओल, धर्मेन्द्र, श्रीदेवी, अमरीश पूरी जैसे कलाकारों के बीच मेरा इतना छोटा किरदार था कि अगर आप आँख झपको तो मैं दिखूं भी ना. मुझे आज हैरानी है वो फ़िल्म नहीं चली."

जूही बताती हैं कि इसी फ़िल्म की शूटिंग के दौरान उन्हें फ़िल्म 'क़यामत से क़यामत तक' में काम करने का मौका मिला. वे कहत हैं यह फ़िल्म "हर किसी को याद है."

क़यामत से क़यामत तक

जूही चावला आगे कहती हैं, "मैं इस इंडस्ट्री से नहीं थी पर मुझे फ़िल्म भी मिल रही थी इसको लेकर मैं बेहद खुश थी. मैंने नासिर साहब की फ़िल्मों को देख रखा था इसलिए बिना सोचे-समझे हाँ कर दी"

जब ये ख़ुशी उन्होंने अपने दोस्तों के साथ बांटी कि उन्होंने नासिर जी के साथ 3 फ़िल्मों का कॉन्ट्रैक्ट कर लिया है, तो ये सुनने के बाद उनको दोस्तों ने उनसे पुछा "ये तुम क्या कर बैठी."

इमेज कॉपीरइट AFP

जूही बताती हैं कि उनके दोस्तों ने उनसे कहा, "नासिर साहब की पिछली तीन फ़िल्में बिलकुल नहीं चली हैं और ये लड़का कौन हैं? इस फ़िल्म का हीरो तो एक नया लड़का हैं जिसे कोई नहीं जानता."

वो कहती हैं आज वो लड़का आमिर ख़ान है जिसे सब मिस्टर परफेक्शनिस्ट कहते हैं. फ़िल्म 'क़यामत से क़यामत तक' ने मुझे इस इंडस्ट्री में अपनी एक जगह दी.

उस दौरान की जो बड़ी फ़िल्म थी उसका आज अता-पता ही नहीं है.

जूही इन दिनों अपनी फ़िल्म 'चॉक एंड डस्टर' की शूटिंग करने में व्यस्त हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार