मोदी को पत्र में नीतीश ने लिखी 'मन की बात'

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में रैली के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के डीएनए पर टिप्पणी की थी. इसके जवाब में नीतीश कुमार ने बुधवार को मोदी को एक 'खुला पत्र' लिखा है.

इसमें उन्होंने कहा कि मोदी की टिप्पणी से न केवल उन्हें बल्कि पूरे बिहार को चोट पहुंची है.

उन्होंने लिखा, ''आप फिर से इस राज्य का दौरा करने वाले हैं, इसलिए मैं उन सब लोगों की तरफ़ से आपको पत्र लिख रहा हूं जो आपके बयान से आहत हुए हैं.''

उन्होंने आगे लिखा, ''आपके शब्दों से एक बहुत बड़ी संख्या में लोग आहत हुए हैं. आप जिस पद पर हैं, ऐसे में यह और भी अशोभनीय है.''

नितिन गडकरी पर भी निशाना

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उन्होंने लिखा, ''हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. इससे पहले भी आपके साथी और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी कहा था कि बिहार के डीएनए में जातिवाद है.''

वो लिखते हैं, ''जिन लोगों पर टिप्पणी की गई हैं, यह वही लोग हैं जिन्होंने आपको चुनाव में इतने बड़े मत से जीत दिलाई. ऐसे में जब इस तरह के बयान दिए जाते हैं तो इन लोगों का विश्वास आपके ऊपर डगमगाता है.''

''मैं बिहार का बेटा हूं''

इमेज कॉपीरइट PTI

नीतीश कुमार ने पत्र में लिखा कि वो बिहार के बेटे हैं और महात्मा गांधी, राम मनोहर लोहिया और जयप्रकाश नारायण के बताए मार्गों पर चलते हैं.

उन्होंने लिखा, ''मैं बिहार का बेटा हूं और मेरा डीएनए वही है जो बिहार के बाक़ी लोगों का है. मैंने अपने 40 साल के सार्वजनिक जीवन में लोगों की भलाई के लिए काम किया है.''

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार