देवघर: भगदड़ के बाद चार अधिकारी निलंबित

इमेज कॉपीरइट Rajesh Kumar

झारखंड के देवघर में भगदड़ में श्रद्धालुओं की मौत के बाद राज्य सरकार ने ज़िले के चार बड़े अधिकारियों को निलंबित कर दिया है.

झारखंड के देवघर के बाबा बैद्यनाथ मंदिर में सोमवार सुबह हुई भगदड़ में 10 लोगों की मौत के बाद राज्य सरकार ने ज़िले के उपायुक्त अमित कुमार और पुलिस अधीक्षक टी मुरुगन को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है.

राज्य के गृह सचिव एनएन पांडेय ने बीबीसी को बताया कि देवघर के सिविल सर्जन और क्षेत्रीय उपनिदेशक स्वास्थ्य को भी कार्य में कथित लापरवाही बरतने के मद्देनजर निलंबित किया गया है.

देवघर से हालात का जायजा लेने के बाद रांची लौटे गृह सचिव ने मुख्यमंत्री को स्थिति से अवगत कराया और कहा कि सुरक्षा और प्रशासनिक व्यवस्था में लापरवाही की बात सामने आई है.

स्पेशल एसपी और ज़िला दंडाधिकारी

सरकार ने निगरानी के आईजी वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी मुरारीलाल मीणा को देवघर का स्पेशल एसपी प्रतिनियुक्त किया है.

वह सावन के मेले तक वे वहां स्थिति संभालंगे. इनके अलावा सरकार ने आईएएस अधिकारी राहुल पुरवार को देवघर का विशेष जिला दंडाधिकारी सह उपायुक्त के तौर पर प्रतिनियुक्त किया है.

इन अधिकारियों ने देवघर में अपना कामकाज संभाल लिया है.

पांच की शिनाख्त , उत्तरप्रदेश, बिहार के

इमेज कॉपीरइट niraj sinha
Image caption घायल कांवड़ियों को अस्पताल ले जाया गया

इस बीच, भगदड़ में मरने वाले कांवडि़यों में पांच की पहचान कर ली गई है.

देवघर के जिला जनसंपर्क अधिकारी बीके झा ने बताया है कि मृतकों में तीन लोग उत्तरप्रदेश और एक- एक बिहार, ओडि़शा के रहने वाले हैं.

इस घटना में एक महिला श्रद्धालु की भी मौत हुई है. लेकिन उनका नाम और पता नहीं मिल पाया है.

घायल चार कांवडि़यों को गंभीर स्थिति में इलाज के लिए हैलीकॉप्टर से राजधानी रांची लाया गया है. यहां उन्हें सरकारी अस्पताल रिम्स में भर्ती कराया गया है.

'आगे जाने की होड़'

घटना सोमवार सुबह साढ़े चार बजे तब हुई जब कावड़िए जलाभिषेक के लिए क़तार में लगे हुए थे.

अधिकारियों के मुताबिक श्रद्धालुओं के बीच आगे जाने की होड़ में ये भगदड़ हुई.

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना जताई है.

राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए का मुआवज़ा देने की घोषणा की है जबकि घायलों को 50 हज़ार रुपए की राशि दी जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)