'16 साल की उम्र में नशे की लत लगी'

आदमी के हाथ में सिगरेट

नशा भारत के लिए तेज़ी से चिंता का विषय बनता जा रहा है. संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार भारत में 20 लाख लोग नशा करते हैं.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सर्वेक्षण के अनुसार पश्चिम बंगाल नशे के मामले में देश में सबसे आगे है.

भारत में कई नशा मुक्ति केंद्र हैं लेकिन नशे के लती लोगों की संख्या को देखते हुए ये पर्याप्त नहीं हैं. नशे से मुक्त हो चुके कई लोग फिर से उसकी चपेट में आ जाते हैं.

फ़ोटोग्राफ़र रॉनी सेन ने कोलकाता में नशे की लत के शिकार कई लोगों के नशे से छुटकारा पाने के लिए की जा रही उनकी जद्दोजहद को समझने की कोशिश की.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption सात साल से नशा मुक्त अनिंद्य सी को नशा छोड़ने के लिए 30 बार ट्रीटमेंट कराना पड़ा. वो पेशे से फ़िल्म अभिनेता हैं. वो कोलकाता पुलिस के नशे और तस्करी के ख़िलाफ़ चलाए जा रहे अभियान के एम्बैसडर हैं.
इमेज कॉपीरइट Other
Image caption एक महीने से नशा मुक्त- अरिजीत ए कोलकाता में नशे के सबसे पुराने लती लोगों में एक माने जाते हैं. वो पिछले 33 सालों से नशा कर रहे थे. उन्होंने बताया कि उन्होंने सबसे पहले ब्राउन सुगर का नशा किया था, जो उस समय शहर के कैफ़े में खुलेआम पिया जाता था. फ़िलहाल वो अपनी माँ के साथ रहते हैं. वो बताते हैं कि उनकी माँ जब कहीं बाहर जाती हैं तो उन्हें नशा मुक्ति केंद्र में छोड़कर जाती हैं. वो उन्हें घर में कभी अकेला नहीं छोड़तीं.
इमेज कॉपीरइट Other
Image caption दो साल से नशा मुक्त- ओटिलिया ने अपने स्कूल के दिनों में मात्र 16 साल की उम्र में नशा करना शुरू किया था. वो कहती हैं, "मेरे पिता की मृत्यु के बाद मैं बहुत अकेली और अवसादग्रस्त हो गई थी. नशे से मुझे उस समय मदद मिली. मैंने नशे के लिए सबकुछ किया." अब वो अपनी पढ़ाई पूरा करना चाहती हैं.
इमेज कॉपीरइट Other
Image caption 23 साल से नशा मुक्त- दीप एम कोलकाता के सबसे पुराने नशा मुक्त लोगों में एक हैं. वो कहते हैं, "एक वक़्त था जब मैंने सारी उम्मीद छोड़ दी थी. मेरे नशे की लत के कारण एक बार मेरी माँ ने आत्महत्या की कोशिश भी की थी. उन्हें भी उसी अस्पताल में भर्ती कराया गया जिसमें मेरा नशे के लिए इलाज चल रहा था. मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं इतने दिन जी पाऊँगा."
इमेज कॉपीरइट Other
Image caption एक महीने से नशा मुक्त- आलिया ज़फ़र ने 16 साल की उम्र में नशा शुरू किया था. वो नशा मुक्ति केंद्र में तीन बार भर्ती हो चुकी हैं. वो साल 2005 से ही नशा छोड़ने की कोशिश कर रही हैं. वो कहती हैं कि उन्होंने पहले भी कई बार इसे छोड़ने की कोशिश की लेकिन विफल रहीं. लेकिन इस बार उन्होंने पक्का इरादा कर लिया है. आलिया मानती हैं कि भारत में महिलाओं के लिए नशा छोड़ना ज़्यादा मुश्किल है क्योंकि महिला नशा मुक्ति केंद्रों की संख्या बहुत ही कम है. वो कहती हैं कि नशा छोड़ने के बाद भी ऐसे लोगों को समाज की मुख्य धारा में आसानी से स्वीकार नहीं किया जाता.
इमेज कॉपीरइट Other
Image caption 16 साल से नशा मुक्तः कनिष्क एम को नशा छोड़ने की कोशिश के शुरुआती दिन अब भी याद हैं. उनके पिता ने इसके लिए पैसे देने से मना कर दिया. उनकी पत्नी ने उनके इलाज के लिए अपने गहने गिरवी रखे. उसके बाद से वो फिर कभी नशे की गिरफ़्त में नहीं आए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार