दुनिया को हीरो साइकिल देने वाले नहीं रहे

इमेज कॉपीरइट Hero groups

हीरो ग्रुप के संस्थापक सदस्यों में से एक और हीरो साइकिल के सेवामुक्त अध्यक्ष ओपी मुंजाल का लुधियाना में निधन हो गया है.

पिछले कई दिनों से उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा था.

ओपी मुंजाल के एक बेटे और चार बेटियां हैं. उनका अंतिम संस्कार शुक्रवार को लुधियाना में होगा.

मुंजाल पिछले महीने ही हीरो मोटर ग्रुप के अध्यक्ष पद से हट गए थे और बिज़नेस में सक्रिय भूमिका नहीं निभा रहे थे. अब उनके बेटे पंकज मुंजाल ग्रुप के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं.

व्यापार

ओपी मुंजाल ने अपने तीन भाइयों के साथ मिलकर वर्ष 1944 में साइकिल के कल पुर्ज़े बनाने से अमृतसर में अपने व्यापार की शुरुवात की थी. फिर अमृतसर को छोड़ उन्होंने लुधियाना में अपना व्यापार जमाया और अपनी कंपनी का नाम 'हीरो' रखा.

इस कंपनी ने वर्ष 1956 में भारत की पहली साइकिल का निर्माण करने वाली इकाई का गठन किया.

1980 के दौर में हीरो साइकिल दुनिया में सबसे ज़्यादा साइकिल की निर्माता कंपनी बन गई.

विश्व के सबसे बड़े साइकिल निर्माता के तौर पर 1986 में हीरो साइकिल का नाम गिनिज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड् में भी दर्ज किया गया.

क़रीब 60 साल तक हीरो साइकिल का नेतृत्व करने वाले मुंजाल ने अन्य क्षेत्रों में भी अपना विस्तार किया.

उन्होंने ऑटो पार्ट्स के निर्माण, शिक्षण संस्थानों और अस्पताल भी खोले.

मुंजाल को पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णण, वीवी गिरी, ज्ञानी जेल सिंह और डॉक्टर अब्दुल कलाम ने राष्ट्रीय सम्मान से भी नवाज़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)