स्वतंत्रता दिवसः पूरे देश में कड़ी सुरक्षा

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty

स्वतंत्रता दिवस के मौक़े पर राजधानी दिल्ली समेत देश के सभी राज्यों में सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं.

दिल्ली के ऐतिहासिक लाल किले की निगरानी के लिए सुरक्षा जवानों और शार्प शूटरों की तैनाती के साथ हेलीकॉप्टर से पैट्रोलिंग का भी इंतज़ाम किया गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से दूसरी बार देश को संबोधित करेंगे.

जम्मू कश्मीर, महाराष्ट्र और पंजाब समेत कई राज्यों की राजधानियों में ख़ास सतर्कता बरती जा रही है.

दिल्ली में कड़ी सुरक्षा

इमेज कॉपीरइट Reuters

स्वतंत्रता दिवस के लिए राजधानी दिल्ली किले में तब्दील हो गई है.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक दिल्ली में 6 हजार से ज़्यादा सुरक्षा जवानों को तैनात किया गया है.

लाल किले के पांच किलोमीटर की परिधि में ख़ास चौकसी बरती जा रही है.

प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए ख़ास व्यवस्था की गई है. लाल किले के आसपास कई स्तरों में सुरक्षा इंतज़ाम किए गए हैं.

लाल किले की हेलीकॉप्टरों के जरिए पैट्रोलिंग की जा रही है. इसके अलावा एयर डिफेंस मेकनिज्म को भी तैयार रखा गया है.

लाल किले के पास नेशनल सिक्यूरिटी गार्ड के शार्प शूटर ऊंची इमारतों पर तैनात रहेंगे.

पूरे इलाके पर नज़र रखने के लिए पांच सौ से ज्यादा सीसीटीवी लगाए गए हैं. हालात पर निगरानी रखने के लिए लाल किले में सेंट्रल कंट्रोल रूम बनाया गया है.

मुंबई में विशेष इंतजाम

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

मुंबई से स्थानीय पत्रकार अश्विन अघोर के मुताबिक़, मुंबई पुलिस दो वजहों से विशेष सतर्कता बरत रही है.

एक तो 1993 बम धमाके के दोषी याकूब मेमन की फांसी के बाद टाइगर मेमन और छोटा शकील की ओर से कथित तौर पर बदला लेने की धमकी दी गई है.

दूसरी वजह है जुलाई और अगस्त के महीनों में मुंबई में चरमपंथी घटनाओं का इतिहास. जुलाई 2005 में मुंबई के झावेरी बाज़ार, ऑपेरा हाउस और दादर में बम धमाके हुए थे. अगस्त 2003 में गेटवे ऑफ़ इंडिया के पास बम धमाके हुए थे.

मुंबई के संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं.

मुंबई पुलिस के प्रवक्ता डीसीपी धनंजय कुलकर्णी ने बताया, "स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर शहर में कई जगहों पर सार्वजनिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है."

उन्होंने बताया कि शहर की सुरक्षा के लिए मुंबई पुलिस के 30 हज़ार से ज्यादा कर्मचारी, 35 सौ अधिकारी और आरपीएफ की 12 कंपनियां तैनात की जाएगी.

कश्मीर में कड़ी चौकसी

इमेज कॉपीरइट EPA

श्रीनगर से बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरूर के मुताबिक़, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ध्वजारोहण समारोह के लिए बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात किया गया है.

स्वतंत्रता दिवस समारोह बख्शी स्टेडियम में आयोजित होगा. स्टेडियम की तरफ जाने वाली सभी सड़कों पर बड़ी संख्या में सुरक्षा जवानों को तैनात किया गया है.

सड़क पर अवरोध लगाए गए हैं और अंदर जाने वाले लोगों की तलाशी का इंतज़ाम किया गया है.

प्रशासन ने अलगाववादी नेताओं को उनके घर में नज़रबंद कर दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार