जंतर-मंतर से नहीं हटाए जाएंगे पूर्व सैनिक

जंतर मंतर पर वन रैंक वन पेंशन के लिए प्रदर्शन

दिल्ली पुलिस ने जंतर-मंतर पर धरना दे रहे पूर्व सैनिकों को आश्वासन दिया है कि उन्हें हटाया नहीं जाएगा.

शुक्रवार सुबह दिल्ली पुलिस और एनडीएमसी ने 'वन रैंक वन पेंशन' की मांग कर रहे पूर्व सैनिकों समेत जंतर-मंतर से सभी प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए कार्रवाई की थी जिसका पू्र्व सैनिकों ने कड़ा विरोध किया था.

प्रदर्शन कर रहे पूर्व सैनिकों ने पुलिस कार्रवाई का विरोध किया और धरनास्थल छोड़ने से इनकार कर दिया.

रिटायर्ड अफसरों का भी समर्थन

मीडिया रिपोर्टों के बाद रिटायर्ड सैन्य अफ़सर भी समर्थन देने के लिए जंतर-मंतर पर जुटना शुरू हो गए.

Image caption मेजर जनरल (रिटायर) एम भाटिया और ब्रिगेडियर (रिटायर) विरेंद्र कुमार पूर्व सैनिकों को समर्थन देने जंतर-मंतर पहुँचे.

समर्थन देने पहुँचे एक ब्रिगेडियर (रिटायर्ड) ने कहा, "जब हम सैनिक सीमा की रक्षा करते हैं तब पुलिसवाले और उनके परिवार भी सुक़ून से सोते हैं. वे ऐसा सोच भी कैसे सकते हैं कि पूर्व सैनिक स्वतंत्रता दिवस की सुरक्षा के लिए ख़तरा हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जंतर-मंतर से प्रदर्शन कर रहे पूर्व सैनिकों को हटाए जाने का विरोध किया है.

केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा है, "पूर्व सैनिकों को ज़बरदस्ती जंतर-मंतर से हटाया जा रहा है. ये अजीब है. कल तक वो हमारी सुरक्षा कर रहे थे. अब वो स्वतंत्रता दिवस की सुरक्षा के लिए ख़तरा हो गए हैं?"

राष्ट्रपति को खुला ख़त

इससे पहले, ख़बरें आ रही थी कि पुलिस स्वतंत्रता दिवस की सुरक्षा के मद्देनज़र जंतर-मंतर से सभी प्रदर्शनकारियों को हटा रही है.

यहां क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठे पूर्व सैनिकों के दो टैंट भी हैं. पुलिस ने बाक़ी प्रदर्शनकारियों के साथ ही उन्हें भी हटाने की कोशिश की.

पूर्व सैनिकों पर कार्रवाई की रिपोर्टें आने के बाद ओआरओपी (वन रैंक वन पेंशन) ट्विटर पर ट्रेंड्स में शीर्ष पर आ गया.

गुरुवार को सेना के पूर्व वरिष्ठ जनरलों ने राष्ट्रपित प्रणब मुखर्जी को खुला ख़त लिखकर वन रैंक वन पेंशन लागू कराने के लिए हस्तक्षेप करने की गुज़ारिश भी की थी.

केजरीवाल ने अपने एक ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शनिवार को स्वतंत्रता दिवस भाषण में वन रैंक वन पेंशन का ऐलान करने की मांग की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार