'सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं'

इमेज कॉपीरइट ap

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि उनकी सरकार पर एक भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं है और उन्होंने 'भ्रष्टाचार मुक्त भारत' का वादा किया.

शनिवार को देश के 69वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल क़िले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने जातिवाद और सांप्रदायिक जुनून को ख़त्म करने पर ज़ोर दिया.

स्वतंत्रता दिवस को उन्होंने देश के सवा सौ करोड़ लोगों के सपनों का सवेरा बताते हुए बधाई दी.

मोदी ने कहा कि देश 'टीम इंडिया की वजह से आगे बढ़ रहा है.'

उपलब्धियां

उन्होंने कहा, "विश्व के सामने भारत की विशालता, भारत की विविधता का गुणगान होता रहता है, लेकिन जैसे भारत की अनेक विशेषताएं हैं, अनेक विविधताएं हैं, भारत की विशालता है, वैसे ही भारत के जन जन में सरलता और एकता है."

उन्होंने देश के भाइचारे और सद्भावना को बड़ी पूंजी बताया.

उन्होंने कहा, "हमारी एकता, हमारी सरलता, हमारा भाईचारा, हमारा सद्भाव ये हमारी बहुत बड़ी पूंजी है. इस पूंजी को कभी दाग़ नहीं लगना चाहिए, कभी उसे चोट नहीं पहुँचनी चाहिए."

मोदी ने कहा कि बीते एक साल में एक नया विश्वास पैदा हुआ है और उन्होंने जनधन योजना, स्वच्छ भारत अभियान और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना को अपनी सरकार की अहम उपलब्धि बताया.

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption लाल किले जाने से पहले प्रधानमंत्री राजघाट गए

उन्होंने कहा कि 17 करोड़ लोगों ने प्रधानमंत्री जनधन योजना के अंदर खाते खुलवाए.

उन्होंने कहा, "दो लाख स्कूलों में सवा चार लाख शौचालय बनाने का काम लगभग पूरा कर लिया गया है."

कोयले की चर्चा

मोदी ने कहा कि "अगर मैं कोयला की चर्चा करूंगा तो कुछ राजनीतिक पंडित उसे राजनीति के तराजू से तोलेंगे."

उन्होंने कहा, अब हमने कोयले की नीलामी का प्रावधान किया है और समयसीमा में नीलामी हुई और क़रीब-क़रीब तीन लाख करोड़ रुपए देश के खजाने में आएँगे."

उन्होंने ये भी कहा कि देश में 20 लाख लोगों ने एलपीजी सब्सिडी छोड़ी है.

काले धन पर उन्होंने कहा कि एसआईटी अपना काम कर रही है.

मोदी ने कहा, "अब कोई कालेधन को बाहर नहीं भेजता है."

उन्होंने कहा, लोगों ने 6500 करोड़ रुपए की आय घोषित की है.

'वन रैंक वन पेंशन'

उन्होंने किसानों की अहमियत पर ज़ोर देते हुए सरकार की सिंचाई और बिजली योजनाओं का भी ज़िक्र किया.

मोदी ने कहा कि कृषि मंत्रालय का नाम अब कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय होगा.

उन्होंने कहा, "18,500 गांव बिजली से वंचित हैं. देश दस साल इंतज़ार करने के लिए तैयार नहीं है. हम एक हज़ार दिनों के अंदर हर गाँव को रोशन कर देंगे. अट्ठारह हज़ार पाँच सौ गांवों में बिजली पहुँचाने का काम पूरा करेंगे."

'वन रैंक वन पेंशन' के मुद्दे पर उन्होंने कहा, "मैं विश्वास दिलाता हूँ कि सिद्धांततः इस सरकार ने वन रैंक वन पेंशन को स्वीकार कर लिया है. संबंधित लोगों से बात चल रही है, बात को आगे बढ़ा रहे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)