'माओवादी हमले' में एसटीएफ जवान की मौत

छत्तीसगढ़ इमेज कॉपीरइट
Image caption फाइल फोटो

छत्तीसगढ़ के बस्तर में संदिग्ध माओवादियों के हमले में एसटीएफ के असिस्टेंट प्लाटून कमांडर कृष्ण प्रताप सिंह की मौत हो गई है जबकि कुछ जवान घायल हुए हैं.

पुलिस प्रवक्ता दीपांशु काबरा ने बताया, “माओवादियों द्वारा दरभा इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 को कुछ स्थानों पर काटने की ख़बर मिली थी. इसके बाद देर रात एसटीएफ समेत पुलिस बल की अलग-अलग टुकड़ियां दरभा के इलाके में पहुँची.”

उन्होंने बताया कि जैसे ही एसटीएफ के जवान मौके पर पहुँचे, संदिग्ध माओवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी.

इस हमले में घायल जवानों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जिनमें दो की हालत गंभीर बताई गई है.

माओवादियों का जमावड़ा

पुलिस के मुताबिक इस घटना के बाद से पुलिस ने इलाक़े में अपना ऑपरेशन तेज़ कर दिया है.

कुछ जगहों में माओवादियों और पुलिस के बीच फायरिंग की भी ख़बरें हैं.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption फाइल फोटो

पुलिस का कहना है कि दरभा के इलाके में सीमावर्ती राज्यों ओडीशा, तेलंगाना और महाराष्ट्र से बड़ी संख्या में माओवादियों का जमावड़ा हुआ है, इसलिए खोज अभियान तेज़ कर दिया गया है.

दो साल पहले इसी दरभा इलाक़े में 25 माई 2013 को माओवादियों ने कांग्रेस के एक दल पर हमला कर सलवा जुडूम के नेता महेंद्र कर्मा, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार पटेल, पूर्व मंत्री विद्याचरण शुक्ल समेत 28 लोगों की हत्या कर दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार