बेवकूफ़ी की ब्रांडिंग में चालाकी का धंधा

bevkoof hotel card इमेज कॉपीरइट AJAY SANTOSHI

कोई भला अपने होटल का नाम बेवकूफ़ क्यों रखना चाहेगा. आप कहेंगे बेवकूफ़ ही होगा कोई.

दरअसल ऐसा है नहीं, झारखंड के गिरिडीह में इस समय बेवकूफ़ नाम से 5 होटल हैं- बेवकूफ़ होटल, महाबेवकूफ़ होटल, बेवकूफ़ नंबर वन होटल, श्री बेवकूफ़ होटल, श्री बेवकूफ़ रेस्टोरेंट.

ये सभी होटल 200 मीटर के दायरे में हैं और अधिकतर फ़ायदे में चल रहे हैं. साफ़ है कि बेवकूफ़ यहां का बड़ा ब्रांड है.

ब्रांड बेवकूफ़ और गोपी राम

इमेज कॉपीरइट AJAY GIRIDIH
Image caption हम बेवकूफ़ नंबर वन हैं, जनाब. असली हमीं हैं, बाकी सब नकली. प्रदीप कुमार चलाते हैं गिरिडीह का पहला 'बेवकूफ़ होटल'.

सन 71 की सर्दियों में गोपी राम ने यहां पहला बेवकूफ़ होटल खोला.

सस्ता और स्वादिष्ट भोजन परोसने के कारण होटल चल निकला. उन्होंने शादी नहीं की थी.

गोपी राम के भतीजे ही उनके वारिस हैं. अब गोपी राम जिंदा नहीं हैं. लेकिन, उनका होटल- बेवकूफ़ होटल अभी जमा हुआ है.

हम पहले बेवकूफ़ हैं

इमेज कॉपीरइट AJAY SANTOSHI

बेवकूफ़ होटल को चलाने वाले प्रदीप कुमार कहते हैं, "मेरे चाचा इनोवेटिव थे. उन्होंने बेवकूफ़ नाम सिर्फ इसलिए रखा, क्योंकि यह अलग था. यह दिमाग में बस जाता था. जब होली के मौके पर महामूर्ख सम्मेलन हो सकते हैं, तो बेवकूफ़ ब्रांड क्यों नहीं?"

लोकप्रियता का आलम यह कि इसके बाद इस नाम से 7 और होटल खुल गए. इनमें से दो बंद हो चुके हैं.

बुरा नहीं लगता

इमेज कॉपीरइट AJAY SANTOSHI
Image caption 'श्री बेवकूफ़ होटल' के सामने खड़े किशोर भदानी. इनका दावा है कि सबसे पहले इनके पुरखों ने ही खोला था 'बेवकूफ़ होटल'.

इन सभी पांच होटलों में भीड़ लगी रहती है. मैं दिन के खाने के समय पहुंचा तो तीस से अधिक लोग जमे थे.

यहां 35 रुपये में शाकाहारी और 80 रुपए में मांसाहारी खाना मिलता है.

मेरी मुलाकात यहां डोमचांच के अर्जुन मेहता व राजू से हुई. खाने का मज़ा उठाते हुए वह कहते हैं, "सिर्फ नाम बेवकूफ़ है. खाना ठीक है, इसलिए यहीं खाते हैं. इसमें कुछ बुरा नहीं लगता."

इमेज कॉपीरइट AJAY SANTOSHI
Image caption ''श्री बेवकूफ़' रेस्टोरेंट के मालिक अशोक भदानी के बेटे नीरज ने मुंबई में इसका ब्रांच खोला. उन्हें लगता है कि बेवकूफ गिरिडीह का आत्मिक शब्द बन चुका है.

गिरिडीह-हजारीबाग रोड पर स्थित इस होटल के बगल में है बेवकूफ़ नंबर-1 होटल.

इसके मालिक शंभू प्रसाद साह का दावा है कि असली बेवकूफ़ तो वही हैं. मतलब ये कि अब लड़ाई बेवकूफ़ कहलाने पर हो रही है.

मुंबई में खुली था ब्रांच

इमेज कॉपीरइट AJAY SANTOSHI
Image caption 'महाबेवकूफ़ होटल' का बटेर खाने लोग कई दूसरे जिलों से आते हैं.

श्री बेवकूफ़ रेस्टोरेंट चलाने वाले अशोक भदानी के बेटे नीरज ने मुंबई के लिंक रोड पर बेवकूफ़ होटल खोला. वहां भी भीड़ उमड़ने लगी.

अशोक भदानी ने बताया कि मुंबई का व्यवसाय ठीक चल रहा था लेकिन चंदा उगाही के कारण वह होटल बंद करना पड़ा.

अशोक भदानी की बेटी अमेरिका में डॉक्टर हैं. उनकी पढ़ाई-लिखाई का खर्च इसी बेवकूफ़ नाम के होटल से निकला है.

चुनौतियां भी हैं

इमेज कॉपीरइट AJAY SANTOSHI

गिरिडीह के ब्रांड बेवकूफ़ को चुनौतियां भी मिल रही हैं. मॉल कल्चर बढ़ रहा है और अब लोग रेस्टोरेंट में जाना चाहते हैं.

यह ट्रेडिशनल है, क्यों नहीं कर देते माडर्न?

जवाब- सर यही तो पहचान है, बेवकूफ़.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार