सोशल मीडिया पर उड़ी डीआरडीओ की खिल्ली

ट्विटर पर रामदेव इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ट्विटर पर योगगुरु रामदेव और डीआरडीओ सोमवार सुबह से ही छाए हुए हैं.

इसकी वजह है वो क़रार जो रामदेव के पतंजलि संस्थान और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के बीच हुआ है.

बताया जा रहा है कि दोनों संस्थाओं के बीच तकनीकी सहयोग होगा और डीआरडीओ पतंजलि के हर्बल उत्पादों की मार्केटिंग करेगा.

इस मुद्दे पर लोगों ने काफ़ी दिलचस्पी ली. ज़्यादातर लोगों ने डीआरडीओ की तीखी आलोचना की है, बल्कि कइयों ने उसका ख़ूब मज़ाक उड़ाया.

साथ ही रामदेव को ट्विटर यूज़र्स ने नहीं बख़्शा है.

रामदेव और शकीरा?

इमेज कॉपीरइट AP

आयुषी श्रीवास्तव (@Aa_balaNari) ने लिखा है, “मैं दावे के साथ कह सकती हूं कि जो काम बाबा रामदेव ने अपने पेट से कर दिखाया वह तो शकीरा सोच ही नहीं सकती है.”

अब्दुल मदमूले (@AMadumoole) ने कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया, “डीआरडीओ ने अपना नाम बदल कर बीआरडीओ यानी बाबा रामदेव डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन कर लिया है.”

पूजा पिलंकर (@Pooja_Pilanka) ने ट्वीट किया, “डीआरडीओ ने बाबा रामदेव के साथ क़रार कर लिया. सीएसडी कैंटीन अब पहले की तरह नहीं रहेगा.”

बचाव

इमेज कॉपीरइट AFP

पर कुछ लोगों ने योग गुरु का बचाव भी किया.

निखिल गनानी (@GananiNikhil) के मुताबिक़, कांग्रेस का विरोध करने की वजह से यह बाबा रामदेव के लेकर साज़िश है.

ऋषि मजुमदार लिखते हैं, “अब बहुराष्ट्रीय कंपनियां डीआरडीओ को गंभीरता से लेंगी.”

वहीं अशोक अब्राहम (@ashokabraham) कहते हैं, “डीआरडीओ में काम कर रहे महान लोगों के बारे में सोच कर दुख हुआ.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार