हिंसक हुआ पटेल आंदोलन, कई जगह कर्फ़्यू

इमेज कॉपीरइट PTI

गुजरात में पटेल समाज को आरक्षण दिए जाने के आंदोलन का नेतृत्व करने वाले हार्दिक पटेल को पहले हिरासत में लेने और फिर रिहा किए जाने के बाद कई इलाक़ों से हिंसा की ख़बरें आ रही हैं.

हार्दिक पटेल समर्थकों ने कई जगह तोड़-फोड़ की और आगजनी की घटनाओं की भी ख़बरें आ रही हैं. कुछ वाहनों में आग भी लगा दी गई.

क़रीब 10 पुलिस चौकियों को आग लगा दी गई है और कई जगह भारतीय जनता पार्टी के कार्यालयों पर भी हमला हुआ है.

कई विधायकों और मंत्रियों के घर पर पत्थरबाज़ी की घटनाएँ भी हुई हैं. मुंबई और दिल्ली हाईवे कई जगह जाम कर दिया गया है, जिससे वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें सड़कों पर देखी जा सकती हैं.

कई जगह कर्फ़्यू

प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच भी कई इलाक़ों में झड़प हुई है. पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े.

सूरत और मेहसाणा में कर्फ्यू लगा दिया गया है. सूरत में सेना को बुलाया गया है. जबकि अहमदाबाद में बीएसएफ की छह टुकड़ियां तैनात कर दी गई है.

इमेज कॉपीरइट PTI

हार्दिक पटेल के सहयोगी और पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के प्रवक्ता चिराग पटेल ने आरोप लगाया कि पुलिस ने महिलाओं और बच्चों समेत कई प्रदर्शनकारियों को पीटा है.

मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने लोगों से शांति और संयम की अपील की है और कहा है कि जनता अफ़वाहों पर ध्यान न दे.

जाँच के आदेश

इमेज कॉपीरइट AP

ट्विटर पर अपने संदेश में मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि पुलिस आयुक्त से मामले की गहन छानबीन करने को कहा गया है और दोषी लोगों को माफ़ नहीं किया जाएगा.

अहमदाबाद में मंगलवार को एक विशाल रैली का आयोजन किया था, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया.

इस रैली के दौरान राज्य की भारतीय जनता पार्टी की सरकार को चेतावनी देते हुए हार्दिक पटेल ने कहा कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो 2017 के विधानसभा चुनाव में इसका नतीजा भुगतना पड़ेगा.

रैली को संबोधित करते हुए हार्दिक पटेल ने कहा, "अगर आप हमें हमारा अधिकार नहीं दोगे तो हम उसे छीन लेंगे. जो भी पटेलों के हित की बात करेगा वही पटेलों पर राज करेगा"

चेतावनी

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

हार्दिक पटेल ने चेतावनी देते हुए कहा कि 1985 में कांग्रेस का पूरी तरह सफ़ाया कर दिया गया था, आज अब भाजपा है. उन्होंने कहा कि 2017 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और कमल इस कीचड़ में नहीं खिलेगा.

हार्दिक पटेल ने एकाएक घोषणा कर दी कि वे भूख हड़ताल करेंगे. साथ ही उन्होंने मांग रखी कि मुख्यमंत्री रैली स्थल पर आएँ और समिति की ओर से ज्ञापन लें.

गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री नितिन पटेल ने कहा है कि राज्य सरकार को इस अल्टीमेटम पर कुछ नहीं कहना है.

सरकार ने पटेल समुदाय की मांग पर चर्चा के लिए एक सात सदस्यीय समिति बनाई है, नितिन पटेल इसकी अगुआई कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार