'मेरे बच्चे दुनिया के सबसे ख़ूबसूरत बच्चे थे'

तुर्की के तट पर सीरिया के जिस तीन वर्षीय बच्चे के शव की तस्वीर ने दुनिया को झकझोर दिया है, उसके पिता ने अपनी आपबीती बीबीसी को सुनाई है.

तीन वर्षीय अयलान कुर्दी अपने माता पिता के साथ यूरोप की तरफ जाने वाले प्रवासियों में शामिल था.

लेकिन नौका पटल गई. इस हादसे में वो, उसकी मां और एक भाई समेत कई लोग मारे गए. लेकिन अयलान के पिता बच गए.

हज़ारों सीरियाई नागिरक विदेशों में नई ज़िंदगी की उम्मीद में देश छोड़ रहे हैं. अब्दुल्ला का परिवार भी इनमें से एक था.

'सब डूब गए'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अलान कुर्दी और उनका भाई ग़ालिब

अयलान के पिता अब्दुल्ला ने बताया कि ग्रीस के कोस द्वीप के लिए तुर्की से विदा होने के थोड़ी देर बाद ही समुद्र में ऊंची लहरें उठने लगीं और कप्तान नाव को डूबता छोड़कर भाग गया.

उन्होंने कहा, "मैंने अपने बच्चों और बीवी को बचाने की बहुत कोशिश की, लेकिन एक-एक कर सब डूब गए."

अब्दुल्ला ने कहा, "मैंने नाव घुमाने की कोशिश की, पर तब तक एक दूसरी लहर ने उसे दूर धकेल दिया."

वे कहते हैं, "मेरे बच्चे दुनिया के सबसे खूबसूरत बच्चे थे. क्या कोई ऐसा आदमी है जिसके लिए उसके बच्चे सबसे ख़ूबसूरत न हों?",

इमेज कॉपीरइट AP

अब्दुल्ला इसके आगे कहते हैं, "मेरे बच्चे अद्भुत थे. वे रोज़ाना खेलने के लिए मुझे नींद से जगाते थे. इससे बेहतर क्या हो सकता है. पर अब सब ख़त्म हो गया है."

सीरिया छोड़ने को मजबूर अब्दुल्ला भारी मन से कहते हैं, "मैं अपने परिवार के लोगों की क़ब्र के पास बैठ कर रोना चाहता हूं ताकि मेरा दुख कुछ हल्का हो सके."

चार गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अब्दुल्ला कुर्दी

अयलान, उनके पांच वर्षीय भाई ग़ालिब और मां रेहाना उन 12 सीरियाई नागरिकों में थे, जो दो नावों में सवार होकर कोस जा रहे थे. पर दोनों नावें डूब गईं.

तुर्की की समाचार एजेंसी दोगान ने ख़बर दी है कि स्थानीय पुलिस ने इस मामले में चार संदिग्ध मानव तस्करों को गिरफ़्तार किया है.

गिरफ़्तार किए गए सभी लोग सीरियाई नागिरक है और उनकी उम्र 30 और 41 साल के बीच है.

समझा जाता है कि अयलान और उस समूह के दूसरे लोग सीरियाई शहर कोबानी के थे. ख़ुद को इस्लामिक स्टेट कहने वाले चरमपंथी गुट के बढ़ते प्रभाव के बाद ये वहां से भाग कर तुर्की चले गए थे.

सीरिया में होगी अंत्येष्टि

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption तीमा कुर्दी, अब्दुल्ला कुर्दी की बहन

तुर्की के एक अस्पातल ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि सभी शवों को तुर्की की राजधानी इस्तांबुल पंहुचाया जाएगा, वहां से उन्हें सीमा पर बसे शहर सुरुच ले जाएगा जाएगा.

इन लाशों को दफ़नाने के लिए सुरुच से कोबानी ले जाया जाएगा.

अब्दुल्ला की बहन तीमा कुर्दी कनाडा के वैंकूवर मे रहती हैं. उन्होंन कहा कि वे अब्दुल्ला और उनक परिवार को कनाडा लाना चाहती थीं.

पर उन्होंने पहले एक दूसरे भाई के लिए कोशिश की और उनकी अर्ज़ी ख़ारिज कर दी गई थी.

कनाडा के नागिरकता और अप्रवास विभाग का कहना है कि उसके पास अब्दुल्ला के परिवार की किसी अर्जी का रिकॉर्ड नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार