'जनहित अभियान देश के ख़िलाफ़ कैसे?'

ग्रीनपीस इमेज कॉपीरइट AFP

मद्रास हाईकोर्ट ने पर्यावरण मामलों पर काम करने वाले अंतरराष्ट्रीय संगठन ग्रीनपीस को गृह मंत्रालय के एफ़सीआरए को रद्द किये जाने के आदेश से अंतरिम राहत दे दी है.

न्यायाधीश एम एम सुन्दरेश ने ग्रीनपीस के एफ़सीआरए को रद्द किये जाने के निर्णय पर आठ हफ़्ते तक की रोक लगा दी है.

एफ़सीआरए का मतलब है फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगूलेशन एक्ट, यानी जिसके तहत स्वयंसेवी संस्थाएं विदेशी धन ले सकती हैं और देश में इसे विकास के लिए इस्तेमाक कर सकतीं है. इसके लिए संस्था को सरकार के नियमों का पालन करना पड़ता है.

कोर्ट ने संस्था के वकील को गृह मंत्रालय को नोटिस भेजने का आदेश भी दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसी साल सितंबर में गृह मंत्रालय ने संस्था पर विदेशी फंड लेने के नियमों का उल्लंघन करने के लिए विदेशों से फंड हासिल करने का लाइसेंस रद्द कर दिया था.

इस पर ग्रीनपीस ने आरोप लगाया था कि भारत सरकार उसकी आवाज़ को दबा रही है.

ग्रीनपीस वापस लेगा केस

Image caption मद्रास हाईकोर्ट

ग्रीनपीस ने मद्रास हाईकोर्ट को बताया कि वह दिल्ली हाईकोर्ट में चल रहे अपने अस्थायी एफ़सीआरए निलंबन के केस को वापस ले रहा है.

ग्रीनपीस का कहना है कि गृह मंत्रालय ने संस्था पर राष्ट्र हित के ख़िलाफ़ काम करने का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ग्रीनपीस की सह-कार्यकारी निदेशक विनुता गोपाल पूछती हैं, “स्वच्छ पानी, साफ हवा और टिकाऊ बिजली के लिये चलाये जा रहे अभियान को देश के खिलाफ कैसे बताया जा सकता है? हमें एक बेहतर भारत के लिए हमारे मौलिक अधिकारों की रक्षा करने की गुहार लगानी पड़ रही है, ताकि हम जनहित कार्यक्रम जारी रख सकें.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार