'हर मुसलमान बुरा नहीं होता'

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका के टेक्सस राज्य में एक मुसलमान छात्र अहमद मोहम्मद की बनाई गई डिजिटल घड़ी को बम समझने और उसे हथकड़ियां पहनाकर पुलिस स्टेशन ले जाने की घटना पर बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक के पन्ने पर लोगों ने मिलीजुली प्रतिक्रिया दी है.

संजना राजपूत का कहना है कि मुसलमान बुरा नहीं होता है तो सरफ़राज़ आलम ने लिखा है कि किसी की अच्छाई का इतना फायदा मत उठाओ कि वो बुरा बनने के लिए मजबूर हो जाए.

अशोक. बी. धोंडे की की राय कुछ अलग है. वे सवाल उठाते हैं कि इस मामले में शिक्षक की सजगता की तारीफ़ की जानी चाहिए. उसे शक हुआ इसलिए उसने पुलिस को सूचना दी इसमे गलत क्या है?

अविनाश सिंह का मानना है कि आतंकियों ने पूरी दुनिया में मुसलमानों को बदनाम किया है और लोग इससे दहशत में हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC HINDI FACEBOOK

वहीं धीरज सिंह ने फेसबुक पर कमेंट किया है कि ऐसे शिक्षकों को नौकरी से निकाल देना चाहिए.

सतीश नायक ने प्रतिक्रिया दी है कि आतंकवादी की कोई जाति, धर्म, मज़हब नहीं होता, न हिंदू बुरा है न मुसलमान बुरा है. बुरा यदि है तो उसका कर्म बुरा है.

शाएना अल हबीबी हबीबी लिखती हैं, "बहुत अच्छा अमरीका क्या पता आगे जाकर ये बच्चा आतंकी बन जाए."

बीबीसी हिंदी के फेसबुक पन्ने पर राकेश कुमार लिखते हैं," सोचिए क्या छवि बनाई है इन लोगों ने. एक छात्र नई चीज़ बनाता है और लोग उसे शक की निगाह से देखते हैं."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)