सीबीआई को सौंपी गई इंद्राणी मामले की जाँच

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK PAGE OF INDRANI MUKHERJEE

चर्चित इंद्राणी मुखर्जी-शीना बोरा मामले में महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि उन्होंने मामला सीबीआई को सौंपने का फ़ैसला किया है.

राज्य सरकार के सचिव केपी बख़्शी ने कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया अब इस मामले से नहीं जुड़े रहेंगे और स्थानीय पुलिस का भी इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि शीना केस को केवल क़त्ल का मामला नहीं माना जा सकता और इसमें आर्थिक मामले भी शामिल हैं.

साथ ही मीडिया में ये आरोप भी लगते रहे हैं कि नए पुलिस आयुक्त जावेद अहमद कथित तौर पर पीटर मुखर्जी के करीबी हैं.

इस सब के बाद अब केस की जांच सीबीआई को सौंपी गई है.

उलझा मामला

ये मामला पिछले महीने सामने आया था जब पुलिस ने कहा कि हाईप्रोफाइल मीडिया हस्ती इंद्राणी मुखर्जी ने अपनी बहन का कत़्ल किया. लेकिन फिर ये बात सामने आई कि शीना कथित तौर पर इंद्राणी की बेटी हैं.

पीटर मुखर्जी ने माना था कि उनके बेटे राहुल और शीना के संबंध थे और इंद्राणी ने शीना से अपना रिश्ता बेटी का नहीं, बहन का बताया था.

मामले की जाँच के वक़्त राकेश मारिया मुंबई के पुलिस आयुक्त थे. लेकिन इसी बीच मारिया को मुंबई के पुलिस आयुक्त के पद से हटा दिया गया और उन्हें पदोन्नित देकर डीजी (होमगार्ड) बनाया गया.

राकेश मारिया शीना मर्डर केस की जाँच की देखरेख ख़ुद कर रहे थे. उनकी जगह जावेद अहमद को मुंबई का पुलिस कमिश्नर बनाया गया.

लेकिन इसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि शीना बोरा हत्यकांड की जांच राकेश मारिया की निगरानी में ही होगी.

अब सीबीआई को मामला सौंपने से केस में नया मोड़ आ गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार