आरक्षण से छेड़छाड़, तो आंदोलन: मायावती

मायावती इमेज कॉपीरइट PTI

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने आरक्षण के मुद्दे पर भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधा है.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण पर हाल में दिए बयान के संदर्भ में मायावती ने कहा कि अगर नरेंद्र मोदी की सरकार ने आरक्षण से छेड़छाड़ की तो उनकी पार्टी इसका विरोध करते हुए पूरे देश में आंदोलन करेगी.

मंगलवार को लखनऊ में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में बसपा प्रमुख ने कहा कि भाजपा और आरएसएस हमेशा से जाति के नाम पर देश को बांटने में लगी रही हैं.

उन्होंने कहा, ''जातिवादी साज़िशों के कारण आरक्षण के फ़ायदों को निष्क्रिय और निष्प्रभावी बना दिया गया है. इसके साथ ही वर्षों से दलितों को मिल रही पदोन्नति में आरक्षण की सुविधा को लगभग ख़त्म कर दिया गया है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

मायावती ने कांग्रेस और समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, "तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने कोर्ट में आरक्षण की सही से पैरवी नहीं की थी. इस वजह से देश में दलितों से प्रमोशन वापस लिया जाने लगा है. इस काम में उत्तर प्रदेश की सपा सरकार सबसे आगे है."

सीबीआई का इस्तेमाल

ऐसी ख़बरें हैं कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनएचआरएम) में घोटाला मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) मायावती से पूछताछ कर सकती है.

इस पर उन्होंने कहा कि इस घोटाले से उनका कोई लेना-देना नहीं है. इसके बावजूद केंद्र सरकार उन्हें परेशान कर रही है.

उन्होंने कहा, "इसी तरह से मुझे ताज कॉरिडोर, आयकर और आय से अधिक संपत्ति के सभी मामलों में एजेंसियों ने हर तरह से फंसाने की कोशिश की थी. लेकिन उन्हें कोई सबूत नहीं मिला."

उन्होंने कहा कि राजनीतिक कारणों से उन्हें फंसाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि मेरे साथ-साथ मेरे परिवार वालों से पूछताछ कर उन्हें प्रताड़ित किया गया.

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने कहा, ''मैं भाजपा के लोगों से कहना चाहती हूं कि वो इस तरह की गिरी हरकत करना छोड़ दें.''

मैं स्वाभिमानी हूं

उन्होंने कहा, "मैं सरकार के इन पैतरों से डरने वाली नहीं हूँ. भाजपा के लोग यह भूल गए हैं कि मैं इस तरह के दबावों में आने वाली नहीं हूँ. मेरा व्यक्तित्व शुरू से ही स्वाभिमानी रहा है. किसी के आगे झुकना मेरा स्वाभाव नहीं है."

उन्होंने कहा कि यह उनकी और बसपा की छवि को ख़राब करने का प्रयास है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार