लेखक पर भावनाएं भड़काने का आरोप, एफ़आईआर दर्ज

केएस भगवान इमेज कॉपीरइट BANGALORE PHOTO SERVICE

कन्नड़ लेखक केएस भगवान एक बार फिर सुर्खियों में हैं.

मैंगलुरु के नज़दीक तटीय कस्बे उप्पिनान्गाडी के दो अन्य लेखकों और उनके ख़िलाफ़ दो दिन पहले दिए गए एक भाषण में 'धार्मिक भावनाओँ को आहत करने' का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करवाई गई है.

बैंगलुरु के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त प्रताप रेड्डी ने बताया, "मैंगलुरु पुलिस ने यह शिकायत स्थानीय पुलिस स्टेशन को स्थानांतरित कर दी गई है. आरोप है कि उन्होंने धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाला भाषण दिया है."

श्याम सुदर्शन भट की शिकायत में आरोप लगाया गया है कि केएस भगवान ने 19 सितंबर को बैंगलुरु के गांधी भवन में यह भाषण दिया था.

धमकियां

इमेज कॉपीरइट TWITTER

रेड्डी के अनुसार, "शिकायतकर्ता 19 साल के हैं. उन्होंने दो अन्य लेखकों चंपा (चंद्रशेखर पाटिल) और सेल्ली का भी नाम लिया है. हम लोग यह देखेंगे कि अख़बारों में छपी ख़बरें और शिकायत में दिए गए उद्धरण सही हैं या नहीं और फिर कार्रवाई शुरू करेंगे."

इससे पहले केएस भगवान कन्नड़ लेखक, शोधकर्ता डॉक्टर एमएम कलबुर्गी की हत्या के बाद सुर्खियों में आए थे जब 30 अगस्त को एक बजरंग दल कार्यकर्ता ने ट्वीट किया था कि ख़त्म किए जाने वालों की सूची में अगला नंबर उनका है.

इस विवाद के सामान्य होने से पहले ही केएस भगवान को कन्नड़ साहित्य अकादमी ने लाइफ़ टाइम अचीवमेंट अवार्ड देकर सम्मानित किया था.

अकादमी के ऐलान से इस विवाद को और हवा मिल गई और भगवान को सिर्फ़ एक दिन में धमकी के 15 फ़ोन आए.

इमेज कॉपीरइट Banagalore News photos

अकादमी को भी एक फ़ोन के ज़रिये जलाकर राख़ कर दिए जाने की धमकी मिली. इस मामले में पुलिस ने बुधवार को एक आदमी को गिरफ़्तार कर लिया.

कहा क्या था?

बीबीसी हिंदी ने केएस भगवान से पूछा कि उन्होंने गांधी भवन की बैठक में 'धार्मिक भावनाओं को आहत' करने वाली क्या बात कही थी?

इसके जवाब में उन्होंने कहा, "मैंने किसी की भावनाओं को आहत नहीं किया है. रामायण के बारे में बोलते हुए मैंने लोगों का ध्यान वाल्मीकि रामायण के तथ्यों की ओर दिलाया. इसके अनुसार राम न तो अवतार हैं और न ही भगवान. नारद वाल्मीकि को बताते हैं कि एक इंसान है जिसमें बहुत सारे प्यार करने योग्य गुण हैं. वह राम हैं."

इमेज कॉपीरइट Bangalore News Photo
Image caption मौत की धमकी मिलने के बाद से केएस भगवान को पुलिस सुरक्षा मिली हुई है.

उन्होंने कहा, "मैंने इसके बारे में 15 साल पहले लिखा था. मेरे निबंध को तीन बार पुनर्प्रकाशित किया जा चुका है."

डॉक्टर कलबुर्गी की हत्या के बाद मिली मौत की धमकी के बाद से केएस भगवान को पुलिस सुरक्षा मिली हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार