'कश्मीर मुद्दा उठेगा तो जवाब देगा भारत'

अमरीका प्रवासी भारतीयों से मिेलते हुए नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

भारत ने कहा है कि अगर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण के दौरान कश्मीर का मुद्दा उठाते हैं, तो उसका माक़ूल जवाब दिया जाएगा.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने पत्रकारों के बात करते हुए कहा, "कश्मीर पर बयान आया, तो हम उसका जवाब देंगे."

इसके पहले एक पाकिस्तानी राजनयिक ने इस्लामाबाद में कहा था कि शरीफ़ कश्मीर के महत्व को समझते हैं और वे यह मुद्दा संयुक्त राष्ट्र महासभा में उठाएंगे.

नवाज़ शरीफ़ 30 सिंतबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोलेंगे.

अमरीकी उद्योग जगत से मुलाकात

इमेज कॉपीरइट TWITTER

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में भाग लेने पहुंच चुके हैं. लेकिन अभी दोनों के बीच कोई मुलाकात तय नहीं है.

बीते साल संयुक्त राष्ट्र में शरीफ़ ने कश्मीर का मुद्दा उठाया था. प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान-की-मून से मुलाकात के दौरान इस पर कड़ा विरोध जताया था.

निवेश पर ज़ोर

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बताया कि अमरीकी कंपनियों का मुख्य ज़ोर इस पर था कि निवेश की दिशा में भारत सही कदम उठा रहा है. पर उसे कुछ और कदम उठाने की और तेज़ी से काम करने की ज़रूरत है.

गुरुवार को मोदी ने अमरीका के मीडिया जगत, वित्तीय सेवा जगत और निर्माण क्षेत्र की कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ मुलाक़ात की.

वित्तीय कंपनियों के साथ हुई बैठक में अमरीका की 9 बड़ी कंपनियों ने शिरकत की. इनमें जेपी मोरगन चेज़, एआईजी इंश्योरेंस, ब्लैकस्टोन आदि के सीइओ ने भाग लिया.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

वॉल स्ट्रीट के दिग्गजों से इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने भारत में विदेशी निवेश के बारे में लाए जा रहे सुधारों पर ज़ोर दिया.

कुछ कंपनियों ने भारत में सुधारों की धीमी गति और टैक्स के मामलों पर चिंता भी ज़ाहिर की.

इस बारे में विकास स्वरूप ने कहा, “प्रधानमंत्री ने सभी कंपनियों के कार्यकारी अधिकारियों की बातें बड़े ध्यान से सुनीं और उन्हें आश्वस्त कराया कि निवेश के मामलों में जो भी रुकावटें होंगी, उन्हें दूर किया जाएगा.”

'मेक इन इंडिया'

इमेज कॉपीरइट Reuters

विकास स्वरूप ने कहा, “प्रधानमंत्री ने बहुत साफ़गोई से बात की. उन्होंने भारत में विकास के बारे में अपने विचार रखे, और यह भी कहा कि अगर विकास की राह में कहीं कोई रुकावट आती है तो उसे दूर किया जाएगा.”

मोदी ने सैन्य साज़ो-सामान बनाने वाली अमरीकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन के सीइओ से मुलाकात की.

इसी सिलसिले में प्रधानमंत्री मोदी फ़ार्च्यून 500 कंपनियों के 47 कार्यकारी अधिकारियों से भी मुलाकातें कर रहे हैं. इनमें फ़ोर्ड मोटर्स, जॉनसन एंड जॉनसन, पेप्सीको आदि कंपनियां शामिल हैं.

इस बैठक में भी 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम के तहत भारत में विदेशी निवेश को बढ़ावा देने पर ज़ोर है.

मीडिया जगत से मुलाकात

इमेज कॉपीरइट TWITTER

मीडिया जगत के 11 बड़ी कंपनियों के सीइओ के साथ भी बैठक हुई है. इसमें 21 सेंचरी फ़ॉक्स के चेयरमैन रूपर्ट मर्डाक भी शामिल थे.

इस बैठक में चर्चा का विषय था कि भारत के विकास में किस तरह मीडिया और आधुनिक संचार तकनीक का प्रयोग किया जा सकता है.

आर्थिक अजेंडे के अलावा कूटनीति के क्षेत्र में गुरूवार को ही ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना से भी मुलाकात की और द्विपक्षीय मामलों पर चर्चा की.

शुक्रवार को मोदी संयुक्त राष्ट्र में विकास के मुद्दे पर होने वाले अहम महासम्मेलन में भाग लेंगे.

ससटेनेबल डेवेलपमेंट गोल्स या एसडीजीज़ नामक इस सम्मेलन में अगले 15 वर्षों में विश्व भर में गरीबी, भुखमरी दूर करने, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्रों को बेहतर बनाने जैसे मुद्दों के लिए नए लक्ष्य तय किए जाने हैं.

मोदी संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान-की-मून से भी मुलाकात करेंगे. वे दूसरे कई देशों के नेताओं के साथ भी दोतरफ़ा बातचीत करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार