'पुराने अंदाज़' को ज़िंदा रख रहे उस्ताद

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

उस्ताद रफ़ीउद्दीन साबरी जाने माने तबला वादक हैं. उनके पिता उस्ताद साघिर अहमद साबरी संगीतकार थे और नन्हें रफ़ीउद्दीन का रुझान तबले की ओर था.

माँ जब रसोई में खाना पका रही होतीं तो यह नन्हा कलाकार वहां रखे डब्बे बजाता रहता था, वालिद साहब ने जब यह देखा तो अपने दोस्त से तबला लाकर रियाज़ के लिए दिया.

आगे चलकर रफ़ीउद्दीन ने उस्ताद अब्दुल वाहिद खां साहब और उस्ताद नज़ीर अहमद ख़ां से तालीम ली और साबरी ऑल इंडिया रेडियो के ए ग्रेड कलाकार बने और देश विदेश में कई प्रस्तुतियां दीं.

कहा जाता है कि तबला हज़ारों साल पुराना वाद्य यंत्र है, पर एक जिक्र यह भी होता है कि 13वीं शताब्दी में भारतीय कवि और संगीतज्ञ उस्ताद अमीर ख़ुसरो ने पखावज के दो टुकड़े करके तबले का आविष्कार किया.

तबले के घरानों में दिल्ली घराना, लखनऊ घराना, फ़र्रुखाबाद घराना, बनारस घराना और पंजाब घराना मशहूर हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption उस्ताद रफ़ीउद्दीन साबरी आल इंडिया रेडियो के टॉप ग्रेड आर्टिस्ट हैं. भारतीय शास्त्रीय गायन,वादन व नृत्य की संगति में तबले का विशेष रूप से प्रयोग होता है.
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption तबले के दो भागों में विभाजित किया जाता है, दाहिना तबला जिसे दायां कहते हैं तथा बाएं तबले को बायां अथवा डग्गा कहा जाता है .
Image caption रफ़ीउद्दीन साहब का मानना है कि संगीत कार्यक्रम आयोजकों को तबला कलाकारों के एकल प्रदर्शन की ओर भी ध्यान देना चाहिए.
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption तबले की थाप, संगीत व नृत्य में ताल देने का काम करती है.
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption एक प्रतिभा संपन्न कलाकार होने के साथ ही वे एक कुशल गुरु भी हैं.
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption चालीस से अधिक शागिर्द उनसे अभी तबला वादन सीख रहे हैं.
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption तबले के आविष्कार से पहले संगत के लिए पखावज व मृदंग का प्रयोग किया जाता था.
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सरल और सौम्य स्वभाव के उस्ताद साबरी मानते हैं कि हमें हर नेमत के लिए शुक्रमंद होना चाहिए और गुरु का सम्मान करना नहीं भूलना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार