जर्मनी स्वाभाविक साझीदार है: मोदी

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत और जर्मनी के बीच वित्तीय, सुरक्षा और नागरिक उड्डयन के क्षेत्रों में कई अहम एमओयू यानी सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किए गए हैं.

दो दिन की भारत यात्रा पर दिल्लीं पहुंची जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच वार्ता के बाद दोनों नेताओं ने साझा प्रेस कांफ्रेंस में ये जानकारी दी.

इस वार्ता के दौरान 18 क्षेत्रों में सहयोग करने पर सहमति बनी जिनमें 14 एमओयू दोनों सरकारों के बीच और चार दोनों देशों की निजी कंपनियों के बीच हुए हैं.

जर्मनी ने भारत को सौर ऊर्जा के विकास के लिए एक अरब यूरो देने का एलान किया है.

'स्वाभाविक साझेदार'

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारतीय आईटी स्किल्स और जर्मन इंजीनियर मिलकर कमाल कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि भारत के आर्थिक परिवर्तन में जर्मनी 'हमारा एक स्वाभाविक साझेदार है'.

चांसलर एंगेला मर्केल ने कहा कि 'हम ने वक़्त का सही इस्तेमाल करके कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं'.

इमेज कॉपीरइट AP

चांसलर मर्केल का प्रधानमंत्री मोदी के सत्ता में आने के बाद भारत का ये पहला दौरा है.

प्रधानमंत्री मोदी अप्रैल में जर्मनी के दौरे पर गए थे जिसके बाद से दोनों देशों के बीच रिश्तों में ज़्यादा गर्मजोशी नज़र आती है.

'निराश जर्मन उद्योगपति?'

भारतीय मीडिया के अनुसार चांसलर एंगेला मर्केल के साथ आए जर्मन औद्योगिक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री मोदी की सरकार के तहत निवेश के माहौल पर निराशा जताई है.

उनका कहना था कि मोदी के नेतृत्व में वो बदलाव की आशा कर रहे थे लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

इसके अलावा जर्मनी ने पारस्परिक क़ानूनी सहायता समझौते पर हस्ताक्षर करने से ये कहकर इंकार कर दिया कि भारत में मृत्यु दंड का प्रावधान अब भी है.

तीसरी इंडो-जर्मन वार्ता

इमेज कॉपीरइट EPA

चांसलर एंगेला मर्केल भारत में तीसरी इंडो-जर्मन अंतरदेशीय वार्ता में हिस्सा लेने आई हैं.

दौरे के आख़िरी दिन मंगलवार को वो बेंगलुरू जाएँगी जहाँ मोदी भी उनके साथ होंगे. बेंगलुरू में मर्केल बिज़नेस फ़ोरम को संबोधित करेंगी.

भारत और जर्मनी के बीच पारंपरिक रूप से अच्छे संबंध रहे हैं. जर्मनी यूरोप में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक सहयोगी है. पिछले साल दोनों देशों के बीच 16 अरब डॉलर का आपसी व्यापार हुआ था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार