कन्नड़, पंजाबी लेखकों ने 'साहित्य सम्मान' लौटाया

नयनतारा सहगल
Image caption लेखिका नयनतारा सहगल के विरोध के स्वरों के बाद कई लेखकों ने सत्ता-शासन-व्यवस्था के प्रति नाराज़गी ज़ाहिर की.

भारत में हाल में हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रा के संकीर्ण होते दायरे के ख़िलाफ़ विरोध जताने वाले लेखकों-कलाकारों की लिस्ट बढ़ती जा रही है.

नयनतारा सहगल, अशोक वाजपेयी, शशि देशपांडे, सारा जोज़ेफ़, सच्चिदानंदन और कुछ अन्य साहित्यकारों के बाद, रविवार को कन्नड़ साहित्यकार अरविंद मालागट्टी और कुम वीरभद्रप्पा ने साहित्य अकादमी पुरस्कार वापस करने की घोषणा की है. दो पंजाबी लेखकों ने भी साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिए हैं.

इमेज कॉपीरइट anurag basavaraj

मालागट्टी ने स्थानीय पत्रकार इमरान क़ुरैशी को बताया, ''डॉक्टर कलबुर्गी की हत्या की वजह हम जानते हैं. हम इंतज़ार करते रहे कि अकादमी इस बारे में कुछ करेगी लेकिन उसके इस बारे में उसने कोई रुख़ अख़्तियार नहीं किया.''

कलबुर्गी हत्याकांड में सीबीआई जांच की सिफ़ारिश

मालागट्टी का कहना है, ''दादरी की घटना और कलबुर्गी हत्याकांड इस बात का संकेत हैं कि न केवल संवैधानिक अधिकारों को कुचला जा रहा है बल्कि देश के सामाजिक तानेबाने को भी तोड़ा जा रहा है.''

वीरभद्रप्पा ने भी दादरी हत्याकांड और साहित्य अकादमी की कथित विफलता पर अपना विरोध दर्ज कराया है.

पंजाबी साहित्यकारों का विरोध

इमेज कॉपीरइट manchanpunjab.org

इसी तरह पंजाबी के नाटककार आतमजीत सिंह और साहित्यकार गुरबचन भुल्लर ने भी साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिए हैं.

आतमजीत सिंह पंजाबी के जानेमाने नाटककार, निर्देशक और रंगकर्मी हैं जिन्हें वर्ष 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

वजह पूछे जाने पर उन्होंने बीबीसी के निखिल रंजन को बताया, ''मेरे देश में जो कुछ हो रहा है, मुझे बहुत बुरा लग रहा है. हमारी सरकार एक्शन लेती हुई नज़र नहीं आ रही है. प्रधानमंत्री भी 9 दिन के बाद बोलते हैं."

उन्होंने कहा, "हम बहुसंस्कृति वाले देश में रहते हैं जहां सब किस्म के लोग हैं. हमें एक-दूसरे के धर्म और संस्कृति की कद्र करना आना चाहिए. कोई अपनी सीमा लांघता भी है तो इसका मतलब उसे मारना नहीं होता है. भारतीय संस्कृति में किसी को जान से नहीं मारा जाता.''

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दिल्ली से सटे दादरी में गोमांस की अफ़वाह के बाद अख़लाक की हत्या कर दी गई थी.

बीफ़ खाने से रोक नहीं सकते: इंजीनियर रशीद

आतमजीत सिंह कहते हैं, ''सबसे ज़्यादा दुख मुझे इस बात से हुआ कि अकादमी के अध्यक्ष कहते हैं कि लेखक इसका राजनीतिकरण कर रहे हैं. इससे मुझे कष्ट हुआ है. मेरा संबंध किसी राजनीतिक दल से नहीं है.''

'दादरी हमला अफ़सोसनाक और निंदनीय'

इमेज कॉपीरइट GURBACHAN SINGH BHULLAR

पंजाबी के ही दूसरे साहित्यकार गुरबचन सिंह भुल्लर ने बीबीसी संवाददाता संदीप सोनी को बताया, ''हाल के दिनों में समाज, साहित्य और संस्कृति पर हमले हुए हैं, जिन्होंने मुझे व्यथित कर दिया है.''

उनका कहना है, ''यह कहा जा सकता है कि ये जो कुछ हो रहा है, कोई नई बात नहीं है और ऐसा पहले भी होता रहा है, लेकिन ये सच है कि हाल के दशकों में इस मामले में कोई सरकार पाक-साफ नहीं रही है.''

हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई है कि समाज इन हमलों से उबर आएगा और पहले से अधिक मज़बूत होगा.

दो और लेखकों ने साहित्य अकादमी से नाता तोड़ा

इमेज कॉपीरइट K. Satchidanandan

इससे पहले भारत में सांप्रदायिक हिंसा की हालिया घटनाओं पर अपना विरोध जताते हुए मलयामल और अँग्रेज़ी भाषा के कवि के. सच्चिदानंदन ने साहित्य अकादमी से नाता तोड़ लिया था.

सच्चिदानंदन साहित्य अकादमी की विभिन्न समितियों के सदस्य थे जिनसे उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया.

इसी तरह जानी-मानी उपन्यासकार सारा जोसेफ़ ने भी अपना साहित्य अकादमी सम्मान केंद्र सरकार को लौटाने का फैसला किया.

शशि देशपांडे ने विरोध दर्ज कराया

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

जानी-मानी उपन्यासकार शशि देशपांडे ने साहित्य अकादमी की गवर्निंग काउंसिल से इस्तीफ़ा दे दिया था.

इमेज कॉपीरइट Banagalore News photos

उन्हें शिकायत थी कि 'अकादमी ने कन्नड़ विद्वान डॉक्टर एमएम कलबुर्गी के निधन पर खेद तक ज़ाहिर नहीं किया.'

अशोक वाजपेयी ने लौटाया साहित्य अकादमी सम्मान

इमेज कॉपीरइट Ashok Vajpeyi

हिंदी कवि और आलोचक अशोक वाजपेयी ने दादरी में बीफ़ की अफ़वाह को लेकर हुई हिंसा और कई सामाजिक कार्यकर्ताओं की हत्याओं से जुड़ी घटनाओं पर 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी' पर सवाल उठाया था.

अशोक वाजपेयी का कहना था कि उन्होंने 'जीवन और अभिव्यक्ति, दोनों की स्वतंत्रता के अधिकार पर हो रहे हमलों को देखते हुए' पुरस्कार लौटाने का फैसला किया.

नयनतारा सहगल ने लौटाया साहित्य अकादमी

मशहूर लेखिका नयनतारा सहगल ने भी अपना साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने का फ़ैसला किया था.

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की भांजी नयनतारा ने एक बयान जारी करके कहा था, "सरकार, भारत की सांस्कृतिक विविधता की हिफ़ाज़त करने में नाकाम रही है. इस वजह से मैंने ये सम्मान लौटाने का फ़ैसला किया है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार