'शिवसेना विरोध करे, कसूरी का कार्यक्रम तो होगा'

ख़ुर्शीद महमूद कसूरी

पाकिस्तानी ग़ज़ल गायक ग़ुलाम अली के कॉन्सर्ट के विरोध के बाद, शिवसेना ने पूर्व विदेश मंत्री ख़ुर्शीद महमूद क़सूरी की किताब के विमोचन कार्यक्रम का भी विरोध किया है.

शिवसेना ने पाकिस्तान पर चरमपंथियों का समर्थक होने का आरोप लगाते हुए आयोजकों से कहा है कि यदि क़सूरी का कार्यक्रम रद्द नहीं किया गया तो इसका विरोध होगा.

हालाँकि एनडीटीवी से बात करते हुए आयोजक ऑब्ज़र्वर रिसर्च फ़ाउंडेशन के सुधींद्र कुलकर्णी ने कहा है कि पूरे सुरक्षा इंतज़ाम हैं और कार्यक्रम पूर्व निर्धारित योजना के तहत होगा.

उन्होंने एनडीटीवी को बताया, "ये खुला जबरन विरोध है. उनका पत्र कहता है कि वे शिवसेना के स्टाइल में कार्यक्रम में बाधा डालेंगे...उन्हें ये अधिकार किसने दिया है."

कार्यक्रम रद्द करने के लिए पत्र लिखा

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, शिवसेना के आशीष चेम्बूरकर ने नेहरू प्लेनेटेरियम के निदेशक को क़सूरी का कार्यक्रम रद्द करने के लिए चिट्ठी लिखी है.

इमेज कॉपीरइट Other

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि क़सूरी यदि पाकिस्तान की ओर से संघर्षविराम में मारे गए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैं तो शिव सेना उन्हें कार्यक्रम करने देने के बारे में सोच सकती है.

क़सूरी की किताब 'नीदर ए हॉक नॉर ए डव: एन इनसाइडर्स एकाउंट ऑफ पाकिस्तांस फॉरेन पॉलिसी' का विमोचन 12 अक्तूबर को मुंबई में होना है.

कार्यक्रम के आयोजक ऑब्ज़र्वर रिसर्च फाउंडेशन ने इस कार्यक्रम को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को पत्र लिखा है.

मुंबई में ग़ुलाम अली का कार्यक्रम रद्द

कुछ ही दिन पहले शिवसेना के विरोध की वजह से मुंबई में पाकिस्तानी ग़ज़ल गायक ग़ुलाम अली का कार्यक्रम रद्द किया गया था.

मुंबई में ग़ुलाम अली का कार्यक्रम नौ अक्तूबर को होना था लेकिन शिवसेना के विरोध के बाद इसे रद्द कर दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार