कसूरी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन वापस नहीं लिया: शिवसेना

संजय राउत इमेज कॉपीरइट sanjayraut

शिवसेना ने कहा है कि पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख़ुर्शीद महमूद कसूरी की किताब के विमोचन के ख़िलाफ़ उसने प्रदर्शन वापस नहीं लिया है.

मीडिया पर विरोध प्रदर्शन वापस लिए जाने की ख़बरों के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने संवाददाता सम्मेलन में ऐसा कहा है.

सोमवार सुबह ही शिवसेना के कार्यकर्तओं ने मुंबई में कार्यक्रम के आयोजक सुधींद्र कुलकर्णी के मुंह पर कालिख पोत दी थी.

शिवसेना की इस कार्रवाई की पूर्व उपप्रधामंत्री एलके आडवाणी समेत अनेक लोगों ने निंदा की है.

लेकिन संयज राउत ने इसे सही ठहराते हुए कहा, "कालिख पोतना हिंसा नहीं है. शिवसेना का रूप और आयोजन करने वालों की हालत आपने देखी है, उनका मुँह काला हो गया है और वो काला मुँह लेकर घूम रहे हैं."

जब उनसे स्पष्ट पूछा गया कि क्या शिवसेना शाम के कार्यक्रम में बाधा डालेगी तो उन्होंने कहा- "वेट एंड वॉच (इंतज़ार करें और देखें)."

इमेज कॉपीरइट NDTV
Image caption आज सुबह शिवसेना कार्यकर्ताओं ने सुधींद्र कुलकर्णी के मुंह पर कालिख पोत दी थी.

अस्पताल गए कुलकर्णी

उधर आयोजक सुधींद्र कुलकर्णी को अस्पताल ले जाया गया है. सुधींद्र कुलकर्णी की बेटी ने बीबीसी को बताया, "स्याही चेहरे से न हटने के कारण उन्हें जीटी अस्पताल ले जाना पड़ा."

वरिष्ठ भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने कुलकर्णी पर हुए हमले की निंदा करते हुए कहा है कि ऐसी घटनाएं बढ़ रही हैं.

वहीं केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि विरोध करने का सभी को हक है लेकिन किसी को शारीरिक नुकसान नहीं पहुँचना चाहिए.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणविस ने ख़ुर्शीद महमूद कसूरी के कार्यक्रम के दौरान पूरी सुरक्षा प्रदान करने का भरोसा दिया है.

'कसूरी भारत विरोधी'

इमेज कॉपीरइट BBC PTI
Image caption शिवसेना ने कसूरी को भारत विरोधी बताया है.

संजय राउत ने कसूरी की किताब के विमोचन को 'पाकिस्तानी एजेंटों' का कार्यक्रम बताया.

उन्होंने कहा, "मुंबई के कुछ पाकिस्तानी एजेंटों ने पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री का कार्यक्रम रखा है."

राउत ने कहा, "महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने आह्वान किया है कि ऐसी बात को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा जो भारत और देश के ख़िलाफ़ हो."

हमने मुख्यमंत्री की इस भावना का स्वागत किया है और इसे आगे बढ़ाने के लिए उद्धव ठाकरे के आदेश पर पूर्व पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने पाकिस्तान के नेता के तौर पर जो भी भारत विरोधी काम किए हैं उनके सबूत मुख्यमंत्री के पास भेजे हैं.

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने शिवसेना के हमले की निंदा की थी. इसकी प्रतिक्रिया में राउत ने कहा, "आडवाणी ने जिन्ना को इतिहास पुरुष कहा था और इसकी कीमत उन्हें चुकानी पड़ी थी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)