ट्रांसजेंडरों की दुर्गा मां

इमेज कॉपीरइट Amitabh Bhattasali

कोलकाता में दुर्गा पूजाओं में अक्सर अलग थीम का इस्तेमाल होता है लेकिन इस बार तो एक समूह ने सामाजिक जागरुकता का एक बिल्कुल अनोखा संदेश दिया है.

ट्रांसजेंडर समुदाय जिनको कोई भी पूजा समुदाय अपने से जोड़ना नहीं चाहता है, उन्होंने खुद ही पूजा आयोजित करने का फैसला किया है और हां उनकी देवी भी बिल्कुल अलग है.

ट्रांसजेंडरों के बारे में माना जाता है कि उनमें पुरुष और स्त्री दोनों गुण होते हैं और ये ही भाव उन्होंने दुर्गा की मूर्ति में भी रखा है यानी कि दुर्गा की मूर्ति आधी दुर्गा है और आधे शिव.

इमेज कॉपीरइट Amitabha Bhattasali

जॉय मित्रा स्ट्रीट उद्यमी युवक संघ पिछले 27 सालों से पूजा आयोजित कर रहा है लेकिन इनका समूह बहुत छोटा है लेकिन इस बार जब उन्होंने अर्धनारीश्वर मूर्ति बनाई तो सोशल मीडिया पर इस मूर्ति की तस्वीरें वायरल हो गईं.

इस पूजा के मुख्य आयोजकों में से एक आलोक गोस्वामी कहते हैं, ‘‘हमारे लिए ये कोई अनोखी चीज़ नहीं है. भानु नस्कर ट्रांसजेंडर हैं जो स्थानीय निवासी हैं और 26 साल से हमारे पूजा समुदाय से जुड़े हैं. हमें कभी नहीं लगा वो हमसे अलग हैं.’’

इमेज कॉपीरइट Amitabh Bhattasali

इस साल भानु नस्कर ने ही प्रस्ताव दिया था कि मां दुर्गा की मूर्ति अर्धनारीश्वर की हो और ट्रांसजेंडर समुदाय को सीधे सीधे पूजा में इनवाल्व किया जाए.

वो कहते है, ‘‘मैं तो पूजा में शामिल होती थी लेकिन मेरे जैसे कई लोगों को पूजा पंडालों में जाने नहीं दिया जाता था. उन्हें लोग भगा देते थे. तो ये आइडिया आया कि क्यों न हम ही पूजा कर लें एक ऐसी. मैंने अपने इलाके के पूजा पंडाल से संपर्क किया और वो तैयार हो गए. उन्होंने हमें अर्धनारीश्वर मूर्ति बनाने की भी अनुमति दी. सामान्य मूर्ति के स्थान पर.’’

ट्रांसजेंडर समुदाय का मानना है कि ये दुनिया नर और नारी शक्ति से मिलकर बनी है सिर्फ नारी शक्ति से नहीं इसलिए नर और नारी दोनों की पूजा होनी चाहिए.

हालांकि इस कदम की आलोचना भी हो रही है. स्थानीय निवासी प्रमोद शॉ कहते हैं, ‘‘कई लोग आलोचना कर रहे हैं. इसमें ट्रांसजेंडर्स को इनवाल्व करने की क्या ज़रुरत थी. लेकिन हमने फैसला कर लिया है तो अब बदल नहीं रहे हैं. सरकार ने इस समुदाय को मान लिया है तो हम क्यों न मानें. सब लोगों को उन्हें मान्यता देनी चाहिए.’’

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)