एसजीपीसी में भी माफ़ीनामे पर घमासान

एसजीपीसी की बैठक इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को श्री अकाल तख्त से पहले माफ़ी दिए जाने पर और फिर यू टर्न लेकर माफ़ी को वापिस लेने के बाद शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में भी इसे लेकर घमासान शुरू हो चुका है.

गुरुवार को चंडीगढ़ में एसजीपीसी प्रधान अवतार सिंह मक्कड़ की अगुवाई में हुई बैठक में एसजीपीसी कार्यकारणी के 15 सदस्यों में से 14 सदस्यों ने हिस्सा लिया.

हालांकि बैठक के एजेंडे में पाँच प्यारों को निलंबित करने का मामला ही शामिल था.

लेकिन सूत्रों के मुताबिक बैठक में पंजाब के मौजूदा हालात के बारे में भी चर्चा की गई.

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

सिरसा के डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के माफ़ीनामे के मामले से नाराज़ पंज प्यारों ने सिखों के पांचों तख्तों के प्रमुख जत्थेदारों को 23 अक्तूबर को तलब किया था हालांकि इस ऐलान के बाद उन्हें निलंबित कर दिया था.

बीबीसी से बात करते हुए शिरोमणि कमेटी के महासचिव सुखदेव सिंह भौर ने बताया के सभी सदस्यों ने अवतार सिंह मक्कड़ को पंज प्यारों के बारे में कोई भी फ़ैसला लेने का अधिकार दे दिया है.

लेकिन उन्होंने यह भी कहा, "अगर सिख संगत को मक्कड़ का फ़ैसला मंज़ूर होगा तो हम भी इस फैसले को मान लेंगे नहीं तो जो संगत कहेंगे हम भी वही मानेंगे. "

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

भौर ने यह भी मांग की इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि सरकार पंजाब में हुई श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में किसी निर्दोष को सज़ा न दे.

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

उधर चंडीगढ़ में एसजीपीसी के प्रधान अवतार सिंह मक्कड़ के विरोध में सिमरनजीत सिंह मान के गुट शिरोमिनी अकाली दल अमृतसर के कुछ कार्यकर्ताओं ने काले झंडे लेकर प्रदर्शन किया.

वह मांग कर रहे हैं कि हटाए गए पांच प्यारों को बहाल किया जाए और बादल सरकार द्वारा की जा रही पंजाब में शान्ति बहाली की कार्रवाई को बन्द किया जाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार