गोहाना: दलित की मौत की जांच करेगी एसआईटी

पुलिस फाइल फोटो इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

हरियाणा के गोहाना में 15 साल के एक दलित लड़के की मौत के मामले की जांच करने के लिए ज़िला पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है.

इससे एक दिन पहले ही मृतक के परिवार ने आरोप लगाया था कि गोविंद की मौत पुलिस हिरासत में हुई थी.

इसके बाद दो असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टरों पर हत्या के आरोप तय किए गए हैं.

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति और जनजाति आयोग के निर्देश पर इन दोनों पर एससी/एसटी अत्याचार विरोधी अधिनियम के तहत भी आरोप तय किए गए हैं.

रोहतक रेंज के पुलिस इंस्पेक्टर जनरल श्रीकांत जादव ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि डॉक्टरों के एक दल ने पोस्टमार्टम जांच की जिसमें पता चला कि गोविंद की मौत फांसी की वजह से हुई.

इमेज कॉपीरइट PTI

इससे पहले, हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर ने इसे हत्या नहीं बल्कि आत्महत्या का मामला बताया था.

तब ये भी कहा गया था कि ये मामला पैसे और कबूतर को लेकर दो परिवारों के बीच विवाद का मामला था और पुलिस ने लड़के को पूछताछ के लिए नहीं बुलाया था बल्कि वो लड़का खुद पुलिस के पास आया था.

विपक्षी दलों ने इसके लिए मुख्यमंत्री खट्टर की कड़ी आलोचना की थी.

इससे कुछ दिन पहले ही फरीदाबाद के एक गांव में दो दलित बच्चों को ज़िंदा जलाने के मामले पर भी हरियाणा सरकार को आलोचना का सामना करना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार