बिहार को किसी तांत्रिक की ज़रूरत नहीं: मोदी

नालंदा में मोदी की रैली इमेज कॉपीरइट AFP

बिहार चुनाव में 28 अक्तूबर को तीसरे चरण के मतदान से पहले नालंदा में प्रचार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालू यादव, नीतीश कुमार और सोनिया पर निशाना साधा.

नालंदा में रैली के दौरान उन्होंने भाजपा प्रशासित राज्यों में आरक्षण की नीति में कोई बदलाव न होने की बात कही.

मोदी ने एक वीडियो में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के तांत्रिक के साथ नज़र आने का मज़ाक उड़ाया है. उन्होंने कहा कि बिहारी को किसी तांत्रिक की ज़रूरत नहीं है.

मोदी ने आरोप लगाया," लालू मुझे गाली देते हैं, नीतीश मुझे अपमानित करते हैं और मैडम सोनिया की पार्टी ने पिछले 15 साल से मेरा जीना मुश्किल किया हुआ है."

मोदी ने सवाल उठाया कि आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चुनाव में उन्हीं पर क्यों निशाना साध रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

मोदी ने दावा किया कि 30 साल से जाति की राजनीति करने वालों के गले से ये बात नहीं उतर रही कि जहाँ वो प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रहे थे वहीं एक चायवाले का बेटा, एक अति पिछड़े परिवार का बेटा कैसे प्रधानमंत्री बन गया.

आरक्षण के मुद्दे पर लालू यादव के भाजपा पर किए जा रहे हमलों के जवाब में मोदी ने कहा, "मैं 15 साल तक गुजरात का मुख्यमंत्री था, किसी भी तरह के आरक्षण पर एक खरोंच भी नहीं आई. मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा...जहाँ-जहाँ भाजपा की सरकार है वहाँ आरक्षण पर कोई खरोंच नहीं आई है."

मोदी ने कहा बिहार के नौजवान को कमाई के लिए बिहार में अपने खेत, अपने दोस्त छोड़कर बाहर जाना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने कहा," पूरी दुनिया में बिहार का डंका बजाना चाहते है तो दो-तिहाई बहुमत वाली सरकार बनाएँ."

उन्होंने तांत्रिक वाले मुद्दे पर कहा कि नौजवान में वो ताकत है कि बिहार को बचाने के लिए उसे किसी जंतर मंतर की ज़रूरत नहीं है.

उन्होंने राजद-जदयू-कांग्रेस के गठबंधन को 'महास्वार्थ-बंधन' बताया. मोदी ने कहा, "इस गठबंधन के तीन ही खिलाड़ी नहीं हैं. लालू जी, लोक-तांत्रिक नीतीश कुमार, मैडम सोनिया जी के अलावा इस गठबंधन का चौथा खिलाड़ी है तांत्रिक.....इस 18वीं शताब्दी की सोच से आज का बिहार बनेगा क्या?'

मोदी ने विकास का नारा देते हुए कहा, "हमें जंतर-मंतर नहीं चाहिए, हमें क्प्यूटर चाहिए....हमारे नौजवानों के हाथ में लैपलॉप होना चाहिए. अगड़ा बिहार बनाना है और पिछड़े बिहार का कलंक मिटाना है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार