नवंबर में फिर लौटेगी मैगी

नेस्ले का कहना है कि उसके मैगी नूडल्स नवंबर में फिर से भारतीय बाज़ार में होंगे.

खाद्य सुरक्षा को लेकर उठे सवालों के बाद मैगी को बाज़ार से हटा लिया गया था.

इसी साल मई में भारत के खाद्य सुरक्षा विभाग ने मैगी के उत्पादन और बिक्री पर पाबंदी लगा दी थी.

अधिकारियों ने मैगी में काफ़ी ज़्यादा मात्रा में लेड पाने का दावा किया था. लेड स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

बेहद चर्चित मैगी के कुछ पैकेटों में लेड की मात्रा को लेकर हुए विवाद के बाद बिक्री में ज़बरदस्त गिरावट आई थी और कंपनी को 2015 के लिए अपना वैश्विक विकास अनुमान भी कम करना पड़ा था.

अगस्त में बॉम्बे हाई कोर्ट ने मैगी से कुछ शर्तों के साथ पाबंदी हटा दी थी.

नेस्ले ने हाल ही में कहा था कि अदालत के आदेश पर कराए गए ताज़ा परीक्षणों में मैगी को खाने के लिए सुरक्षित पाया गया है.

नेस्ले ने 1983 में भारत में मैगी लॉंच की थी और यह इतनी पसंद की गई कि नुक्कड़ की दुकानों पर मिलने लगी.

इमेज कॉपीरइट EPA

स्विटज़रलैंड की बहुराष्ट्रीय कंपनी नेस्ले दुनिया की सबसे बड़ी पैकेज्ड फ़ूड कंपनी है.

इसका भारत के 80 फ़ीसदी नूडल बाज़ार पर क़ब्ज़ा रहा है. कंपनी ने विवादों के बाद 40 करोड़ पैकेट मैगी को नष्ट कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार