'सीएम कैंडिडेट घोषित करना ज़रूरी नहीं'

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली

केंद्रीय वित्त मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली बिहार चुनाव में अपनी पार्टी की जीत को लेकर आश्वस्त हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव में बुधवार को तीसरे चरण में 50 सीटों के लिए मतदान हो रहा है.

माहौल का जायज़ा लेने और चुनाव प्रचार के लिए पटना पहुंचे अरुण जेटली ने बीबीसी से कहा कि यह कहना ग़लत है कि पहले दो चरणों में एनडीए गठबंधन कमज़ोर रहा है.

जेडीयू, राजद और कांग्रेस के महागठबंधन ने नीतीश कुमार का नाम मुख्यमंत्री पद के लिए घोषित कर रखा है. लेकिन भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने अभी तक किसी के नाम की मुख्यमंत्री पद के दावेदार के रूप में नहीं की है.

अरुण जेटली ने कहा, "किसी भी प्रकार का भ्रम नहीं है. ये आवश्यक नहीं होता कि हम हर राज्य में सीएम कैंडिडेट घोषित ही करें. हमने कई राज्यों में बाद में ही घोषणा की है."

कई राजनीतिक विश्लेषक इस बात पर ज़ोर देते रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी ने मजबूरी में सीएम कैंडिडेट का नाम नहीं घोषित किया, क्योंकि ऐसा करने से एनडीए के 'जातीय समीकरण' को नुक़सान पहुंचता.

इस सवाल पर कि क्या दिल्ली चुनाव में मिली करारी हार की वजह से भाजपा ने ये फ़ैसला लिया, अरुण जेटली ने कहा, "हम चार चुनाव जीते हैं. जम्मू, हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र. एक जगह हार भी गए तो क्या, ये हार-जीत तो लगी रहती है."

इमेज कॉपीरइट AFP

अरुण जेटली ने उन सभी कयासों को खारिज कर दिया कि भाजपा बिहार में पिछड़ रही है.

बिहार में विधानसभा चुनाव में मतदान पांच चरणों में हो रहे हैं. मतगणना आठ नवंबर को होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार