फिर उठाया पाकिस्तान, लेकिन तुरंत बैकफुट पर

सुशील मोदी का ट्वीट इमेज कॉपीरइट SushilModi

बात शुरू हुई केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता राजवी प्रताप रूडी के ट्वीट से जिसमें पाकिस्तानी अख़बार डॉन की वेबसाइट पर जदयू के विज्ञापन छपने का मुद्दा उठाया गया था.

रूडी के साथी और बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी ऐसा ही ट्वीट दाग़ा.

हालांकि रूडी ने बाद में ट्वीट वापस ले लिया.

ट्वीट के आने के बाद लोग इसपर सवाल उठा रहे थे और बता रहे थे कि गूगल वेबसाइटों पर इश्तिहार कैसे काम करते हैं. बताया गया कि गूगल वेबसाइटों पर जहां से वेबसाइट देखी जा रही है उसी स्थान के आधार पर विज्ञापन दिखाता है.

बिहार चुनावों के दौरान बीजेपी किसी न किसी तरह से महागठबंधन को पाकिस्तान से जोड़ने की कोशिश करती रही है.

इमेज कॉपीरइट Niraj Sahai

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने चंद दिनों पहले बयान दिया कि अगर बिहार में एनडीए की हार हुई तो पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे.

गठबंधन और पाकिस्तान को बार-बार पाकिस्तान जोड़ने के सवाल पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडे ने कहा, "पाकिस्तान आतंकवाद का पोषक है और नीतीश ने बिहार में आतंकवाद को बढ़ावा दिया है. उन्होंने बिहार में आतंकवादियों संरक्षण देने और पोषण करने का काम किया है इसलिए उन्हें पाकिस्तान से जोड़ा जा रहा है."

बिहार में मोदी को प्रधानमंत्री का उम्मीदवार चुने जाने तक बीजेपी और जदयू की मिली जूली सरकार थी.

पाक अख़बार में विज्ञापन के मामले पर पांडे का कहा था कि उन्हें जानकारी मिली थी कि "पाकिस्तान में महागठबंधन के विज्ञापन दिख रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट AP

लेकिन जब बीबीसी ने उनसे गूगल वेबसाइटों के विज्ञापन क्षेत्र के आधार पर दिखने की बात कही तो वो बोले, 'मेरे पास साक्ष्य नहीं है कि महागठबंधन पाकिस्तान में विज्ञापन दे रहा है.'

जदयू के बिहार अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा, "तीन चरणों के बाद बीजेपी को लग गया है कि वह चुनाव हार गई है इसलिए हताशा में धार्मिक उन्माद फैलाने के लिए अफ़वाहों का सहारा ले रही है."

उन्होंने कहा, "बिहार में मोदी की कृत्रिम छवि का पर्दाफ़ाश हो रहा है. अमित शाह की संगठनकर्ता और चाणक्य की छवि भी नष्ट हो रही है. ऐसे में ये बौखलाकर इस तरह की बातें कर रहे हैं."

वहीं पांडे से जब पूछा गया कि पाकिस्तान के बहाने क्या बिहार के मुसलमानों पर निशाना साधा जा रहा है तो उन्होंने कहा, "विश्लेषक अपनी तरह से समझने के लिए स्वतंत्र हैं."

Image caption बिहार में तीन चरणों का मतदान हो चुका है, दो बाक़ी हैं.

जब उनसे पूछा गया कि क्या बिहार में विकास का मुद्दा छूट गया है तो उन्होंने कहा, "जहाँ आतंक को आश्रय मिलेगा वहां विकास नहीं हो सकता है. बिहार से आतंकियों के संबंध जुड़े हैं. अशांत और आतंकवाद से जुड़े बिहार में विकास नहीं हो सकता है."

जब उनसे कहा गया कि आप एक चयनित मुख्यमंत्री पर आतंकवाद से जुड़े होने के बेहद गंभीर आरोप लगा रहे हैं तो उन्होंने कहा, "मैं जिम्मेदारी के साथ कह रहा हूँ कि बिहार के मुख्यमंत्री ने बिहार में आतंकवाद को रोकने के लिए ज़िम्मेदारी से क़दम नहीं उठाए वरना बिहार में आतंकवाद को बढ़ावा नहीं मिलता."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार