अगर सीमा पार से पहली गोली चलती है तो...

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के नापाक मंसूबों का जवाब भारत नरमी बरतकर नहीं देगा. ये बात केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को वाराणसी में मीडिया से कही.

राजनाथ सिंह ने एक सवाल के जवाब में तल्ख़ अंदाज़ में कहा कि सीमा पार से अगर एक गोली चलेगी तो हमारी तरफ़ से फिर चलने वाली गोलियां गिनी नहीं जाएंगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पड़ोसी देशों से बेहतर रिश्ते बनाना उनकी सरकार की प्राथमिकता है.

उन्होंने कहा, ''सीमा पर पहली गोली हमारी तरफ़ से नहीं चलायी जायेगी, लेकिन अगर सीमा पार से पहली गोली चलती है तो फिर अपने तरफ से चलने वाली गोलियों को गिना भी नहीं जाएगा.''

वाराणसी के नरिया इलाक़े में स्थित श्री राम चौधरी शोध संस्थान में आयोजित अंतरराष्ट्रीय शोध संगोष्टी एंव विद्वत अलंकरण समारोह में राजनाथ सिंह मुख्य अतिथि थे.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

कलाकारों और अब वैज्ञानिकों के सम्मान वापसी के सवाल पर उन्होंने प्रधानमंत्री का बचाव किया.

उनका कहना था कि अगर किसी को लगता है कि असहिष्णुता बढ़ी है तो वो उन सभी सम्मानित जनों को न्योता देते हैं कि आएं और अपनी बात रखें मगर इसके लिए प्रधानमंत्री पर निशाना साधना ग़लत है.

अंडरवर्ड डॉन छोटा राजन के भारत प्रत्यार्पण और दाऊद की गिरफ़्तारी के सवाल पर राजनाथ सिंह ने धैर्य रखने को कहा.

साथ ही बताया भी कि इसके लिए कोई समय-सिमा निर्धारित नहीं की जा सकती.

वाराणसी में संतों पर हुए लीठीचार्ज को राजनाथ सिंह ने ग़लत क़रार दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)