ब्रिटेन-भारत को पसंद हैं एक दूसरे की ये चीज़ें

चाय और व्हिस्की इमेज कॉपीरइट Getty THINKSTOCK

भारत और ब्रिटेन के बीच एक लंबा और उतार चढ़ाव भरा रिश्ता रहा है. हालांकि दोनों के बीच अब केवल शासक और उपनिवेश का रिश्ता नहीं रह गया है.

पिछले कुछ सालों में रिश्तों में काफी सुधार हुआ है. बीबीसी आपको ब्रिटेन की उन पांच चीज़ों के बारे में बताएगा जो भारत में बहुत पसंद की जाती हैं.

साथ ही भारत की उन पांच चीज़ों से भी वाकिफ़ कराएगा जो ब्रिटेन में बेहद लोकप्रिय हैं.

भारत को ब्रिटेन की कौन सी चीज़ें पसंद हैं (आएशा परेरा, बीबीसी न्यूज़, दिल्ली)

द इंग्लिश प्रीमियर लीग

इमेज कॉपीरइट Getty

मुंबई या दिल्ली के कुछ बार में वीकेंड की शाम को चले जाइए और आपको यकीन ही नहीं होगा कि आप भारत में हैं.

वहां बड़ी टीवी स्क्रीन पर फुटबॉल मैच देख रहे लोगों का जोश देखते ही बनता है.

भारत में मैन्चेस्टर यूनाइटेड, लिवरपूल, आर्सेनल और चेल्सी जैसे फुटबॉल क्लबों के फैन क्लब मौजूद हैं.

इनमें से कई को इन क्लबों से मान्यता तक मिली हुई है. इनके सदस्यों के लिए क्लब वहां होने वाले फुटबॉल मैच की फ्री स्क्रीनिंग और कम दाम पर खानपान का इंतज़ाम कराता है.

शराब

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

भारत में शराब को कुछ ज़्यादा ही पसंद किया जाता है. पिछले साल भारत में 1.5 अरब लीटर शराब का सेवन किया गया.

'बैंक ऑफ अमरीका मेरिल लिंच' के एक शोधपत्र के अनुसार पिछले साल भारत शराब की सबसे ज़्यादा खपत करने वाला देश रहा.

भारत में शराब का व्यवसाय 10 अरब डॉलर का है जिसके चलते डिएगो जैसी बड़ी कंपनियां भारत आईं और यहां की यूनाइटेड ब्रूअरी में 53 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी.

पीजी वुडहाउस, एनिड ब्लायटन और अगाथा क्रिस्टी

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption जेके रॉलिंग

जीव्स और वूस्टर, हरक्यूल पॉयरॉट, द फेमस फाइव, मिस मार्पल और मूनफेस कुछ ऐसे साहित्यिक पात्र रहे हैं जो भारत में काफी लोकप्रिय हुए.

ख़ासकर पीजी वुडहाउस के भारत में काफी चाहने वाले हैं और उनकी जीव्स सिरीज़ की किताबें आपको भारत के अधिकतर पुस्तकालयों में मिल जाएंगी.

वहीं कई भारतीय युवा एनिड ब्लायटन के डायट चार्ट पर बड़े हुए हैं तो हैरी पॉटर की लेखिका जेके रॉलिंग के भी भारत में बहुत चाहने वाले हैं.

बेनडिक्ट कंबरबैच

इमेज कॉपीरइट Getty

शेरलॉक होम्स की कहानियां किसे पसंद नहीं. भारत में शेरलॉक होम्स का किरदार निभाने वाले बेनडिक्ट कंबरबैच को लोगों ने बहुत सराहा है.

बीबीसी की यह सिरीज़ इतनी अधिक मशहूर है कि इसे भारत के साथ अमरीका और ब्रिटेन में एक साथ दिखाया जाता है.

शेरलॉक होम्स के ऐपिसोड और शेरलॉक मैराथन यहां कई बार दिखाए गए हैं.

संगीत

इमेज कॉपीरइट
Image caption म्यूज़िक ग्रुप द बीटल्स

ब्रिटेन का संगीत भारत में बहुत से लोगों को पसंद है. बीटल्स, क्वीन, ओएसिस, द हू और रोलिंग स्टोन्स के चाहने वालों की भारत में एक लंबी फेहरिस्त है.

ब्रिटेन को भारत की कौन सी चीज़ें पसंद हैं (मारियो कैसियोटोलो, बीबीसी न्यूज़, लंदन)

करी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

शायद ही ऐसा कोई ब्रिटेनवासी हो जिसने करी का स्वाद न चखा हो.

उनके लिए यह खाने से ज़्यादा एक तरीका है अपने पुराने दोस्तों और ऑफिस के नए साथियों के साथ एक अच्छा समय बिताने का.

ब्रिटेन की बेस्वाद फिश और चिप्स से जब लोग ऊब जाते हैं तो उनके लिए करी और नान ब्रेड ही राहत लेकर आती है.

यहां टिक्का मसाला और कोरमा लोगों को इतना पसंद हैं कि इस तरह के व्यंजन ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था में चार अरब पाउंड का योगदान करते हैं.

ताजमहल

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

यह तो सभी मानते हैं कि ब्रिटेन से भारत आने वाला कोई भी व्यक्ति बिना ताजमहल देखे वापस नहीं जा सकता.

राजकुमारी डायना ने 1992 में यहां अकेले तस्वीर खिंचवाई थी और उसी साल के अंत तक वो प्रिंस चार्ल्स से अलग हो गई थीं.

ऐसे में ब्रिटेन के लोगों के मन में ताजमहल के साथ एक भावुक रिश्ता जुड़ा हुआ है.

चाय

इमेज कॉपीरइट Getty

ब्रिटेन में जब भी किसी मुश्किल का हल निकलना होता है तो सबसे पहले चाय की केतली चढ़ाई जाती है.

यह एक ऐसी चीज़ है जिसमें लोग अपने सभी ग़म डाल देते हैं.

ब्रिटेन की ईस्ट इंडिया कंपनी के भारत में शासन के बाद यहां चाय का वाणिज्यिक उत्पादन शुरू हुआ.

जिसके बाद ब्रिटेन में भी चाय काफी लोकप्रिय हुई. हमारे लिए असम और दार्जिलिंग केवल नाम नहीं बल्कि दोस्त हैं.

वक़्त के टुकड़े

ब्रिटेन के लोग उन दिनों को भूल नहीं पाते जब भारत उनके साम्राज्य का हिस्सा हुआ करता था.

ऐसा नहीं है कि इस वक़्त को लोग बहुत ही खुशी के साथ देखते हैं लेकिन उस वक़्त की नाटकीय कहानियां उन्हें रिझाती रहती हैं.

इस साल की शुरुआत में 'इंडियन समर्स' नाम से एक शो शुरू हुआ था.

इसमें 1932 का भारत दिखाया गया है और यह इतना लोकप्रिय हुआ कि इसका दूसरा सीज़न भी बनाया जा रहा है.

जिन और टॉनिक

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

ब्रिटेन की ईस्ट इंडिया कंपनी के सामने मलेरिया के ख़िलाफ लड़ाई के दौरान एक ऐसा पेय सामने आया जो आज भी यहां काफी पसंद किया जाता है.

मलेरिया से बचने के लिए कुनैन की गोली का इस्तेमाल किया जाता था लेकिन यह इतनी कड़वी होती थी कि इसका सेवन बहुत ही मुश्किल होता था.

अंग्रेज़ों ने इस कुनैन में पानी, चीनी, नींबू और जिन मिलाई जिससे यह काफ़ी स्वादिष्ट पेय बन गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार